Thursday, June 2, 2011

LETTER OF THE EDITOR OF "THE TIMES OF INDIA" TO THE PRIME MINISTER OF INDIA

Dear Mr. Prime minister,


I am a typical mouse from Mumbai. In the local train compartment which has capacity of 100 persons, I travel with 500 more mice. Mouse at least squeaks, but we don't even do that.


Today I heard your speech, in which you said, 'NO BODY WOULD BE SPARED'. I would like to remind you that fourteen years have passed since serial bomb blasts in Mumbai took place. Dawood was the main conspirator. Till today he is not caught. All our Bollywood actors, our builders, our Gutka king keep meeting him, but your Government can not catch him. Reason is simple; all your ministers are hand in glove with him. If any attempt is made to catch him, everybody will be exposed. Your statement 'NOBODY WOULD BE SPARED' is nothing but a cruel joke on these unfortunate people of India.
Enough is enough. As such, after seeing terrorist attack carried out by about a dozen young boys, I realize that if same thing continues, days are not far away when terrorists will attack by air, destroy our nuclear reactors and there will be one more Hiroshima.
We the people are left with only one mantra. Womb to Bomb to Tomb. You promised Mumbaikar Shanghai; what you have given us is Jalianwala Baug.
Today only your home minister resigned. What took you so long to kick out this joker? Only reason was that he was loyal to Gandhi family. Loyalty to Gandhi family is more important than blood of innocent people, isn't it?


I am born and brought up in Mumbai for last fifty eight years. Believe me, corruption in Maharashtra is worse than that in Bihar. Look at all the politicians, Sharad Pawar, Chagan Bhujbal, Narayan Rane, Bal Thackray , Gopinath Munde, Raj Thackray, Vilasrao Deshmukh all are rolling in money. Vilasrao Deshmukh is one of the worst Chief ministers I have seen. His only business is to increase the FSI every other day, make money and send it to Delhi, so Congress can fight next election. Now the clown has found new way and will increase FSI for fishermen, so they can build concrete houses right on sea shore. Next time terrorists can comfortably live in those houses, enjoy the beauty of the sea and then attack our Mumbai at their will.


Recently, I had to purchase a house in Mumbai. I met about two dozen builders. Everybody wanted about 30% in black. A common person like me knows this and with all your intelligent agency & CBI, you and your finance ministers are not aware of it. Where all the black money goes? To the underworld isn't it? Our politicians take help of these goondas to vacate people by force. I myself was victim of it. If you have time please come to me, I will tell you everything.


If this has been a land of fools, idiots, then I would not have ever cared to write to you this letter. Just see the tragedy. On one side we are reaching moon, people are so intelligent; and on the other side, you politicians have converted nectar into deadly poison. I am everything Hindu, Muslim, Christian, Schedule caste, OBC, Muslim OBC, Christian Schedule caste, and Creamy Schedule caste; only what I am not is INDIAN. You politicians have raped every part of Mother India by your policy of divide and rule.


Take example of our Former President Abdul Kalam. Such an intelligent person; such a fine human being. But you politician didn't even spare him and instead choose a worthless lady who had corruption charges and insignificant local polititian of Jalgaon WHO'S NAME ENTIRE COUNTRY HAD NOT HEARD BEFORE. Its simple logic your party just wanted a rubber stamp in the name of president. Imagine SHE IS SUPREME COMMANDAR OF INDIA'S THREE DEFENCE FORCES. what moral you will expect from our defence forces ? Your party along with opposition joined hands, because politicians feel they are supreme and there is no place for good person.


Dear Mr Prime minister, you are one of the most intelligent persons, a most learned person. Just wake up, be a real SARDAR. First and foremost, expose all selfish politicians. Ask Swiss banks to give names of all Indian account holders. Give reins of CBI to independent agency. Let them find wolves among us. There will be political upheaval, but that will be better than dance of death which we are witnessing every day. Just give us ambience where we can work honestly and without fear. Let there be rule of law. Everything else will be taken care of.


Choice is yours Mr. Prime Minister. Do you want to be lead by one person, or you want to lead the nation of 100 Crore people?


Prakash B. Bajaj

Editor Mumbai-Times of इंडिया

...........................


48 comments:

mannbikram said...

Sorry to say.. But He is not a Sardar.. you saying its been 14 years .. SO WHAT ..

its been 27 years Since the Sikhs were targetted , Chosen and killed for three days and NO one has been dealt for that..

14 years is a less time got ot wait a long time.. for it to reach 20+...
but then on other thoughts WHY are we blaming the Prime Minister .. He did not come and caught our hand to vote for him.. NOPE .. WE the peole voted Knowing fully well all the tcorrupt people YET we go and vote for them so the fault is ours ..

Bikram's

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

मुझे तो अब रामदेव जी से ही उम्मीद है, इन सब से तो बिल्कुल नहीं..

Bhushan said...

Bold editorial it looks. But we got to know whom this 'Time of India' news paper belongs. Same people Dr. Divya, same people!! We never know the intentions of such editorials. Let us wait for tomorrow's head lines.

Media did not pay attention to Anna Hazare when he started fast. Suddenly there was a concern shown in political circles. Media took the hint and the very next day Anna Hazare was in head lines.

मनोज कुमार said...

इस जानकारी को शेयर करने के लिए आभार!

Bhushan said...

मेरा विचार है कि मीडिया ने अभी स्वामी रामदेव का कद छोटा करना है. इंतज़ार करें.

डा० अमर कुमार said...

.किराये का परधान मन्तरी खीच रहा है देश
गलती गाड़ीवान की… और मार खाये बैल !

Mohinee said...

It's great surprise by TOI! but still think what must be the reason behind this article.

But it's really good.

Dr Varsha Singh said...

Thanks for sharing.

कुश्वंश said...

आजादी के इन लगभग सत्तर सालों का संपूर्ण लेखा-जोखा खीच दिया है आपके इस पोस्ट ने अधोपांत पढ़ा , ये सवाल १०० करोड़ जनता के जेहन में तैर रहे है और इनका उत्तर कही तो मिलेगा जब हर तरफ उठ खड़े होंगे बाबा रामदेव और साथ देंगे आज के गाँधी अन्ना हजारे, जो आस लगाये बैठे थे की इन देश में राजनीतिज्ञों के अलावा कोई कुछ नहीं कर सकता उन्हें दिखाई देगी उठ खड़ी जनता. अब ये छद्म प्रजातंत्र का ढकोसला नहीं चलेगा और ना ही बांटो और राज करने का अंग्रेजी संविधान, दिव्याजी बधाई इसे पढ़ाने के लिए. और अंत में -
हमारे आपके सबके
अंतस में है एक एक आकाश
और वही से बनती है अनुभूतियाँ
और अनुभूतियों को चाहिए शब्द
बेबाक शब्द , बिना परवाह ,
आपकी अनुभूतियाँ जारी रहनी चाहिए
छमा सहित शुभकामनाये , आपकी प्राकृतिक पोस्ट के इंतज़ार में

राज भाटिय़ा said...

१०० करोड हो या २०० करोड? जिस ने बिठाया उस कुर्सी पर हम तो उसी का गुनगाण करेगा.....:)

Er. Diwas Dinesh Gaur said...

Yeah...I've Read about it. It's really a nice letter. Actually it is not only a letter but a befitting reply to the prime minister also.
Each word of this letter is consisting a deep pain of a common man of Indian civil society.

Thanks to share this letter here on your blog.

Divya didi...I've also commented on a post of your blog 'Paradise', that you have shared on my blog. But it has not been published. Maybe you didn't see it.
Thanks
With Regards
Your Brother
Er. Diwas Dinesh Gaur...

आशीष श्रीवास्तव said...

क्षमा किजीये,
http://epaper.timesofindia.com/Default/Scripting/ArticleWin.asp?From=Archive&Source=Page&Skin=pastissues2&BaseHref=TOIM/2008/12/12&PageLabel=5&EntityId=Ar00506&ViewMode=HTML&GZ=T

टाईम आफ ईंडीया मे प्रकाश बजाज नाम का कोई संपादक नही रहा है। कृपया उपर वाली लिंक खोल कर देंखे!

इस पत्र की भावनाओ से मेरा कोई विरोध नही है लेकिन क्रोध उस समय आता है जब लोग आंख मूंद कर इस तरह की चेन मेल पर विश्वास कर बैठते है। यदि आप इस पत्र की भाषा पर ध्यान देंगे तो आपको ग्रामर और शब्दो के प्रयोग मे ऐसी गलतीयां नजर आयेंगी जो TOI का संपादक हरगीज नही कर सकता!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

सब एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं!

JC said...

आशीष जी को धन्यवाद 'सत्य' को उजागर करने के लिए, यद्यपि सनसनी फ़ैलाने हेतु किसी ब्लॉगर ने नकली समाचार में भी मुंबई और देश के आम जीवन के 'सत्य' का सत्व अथवा निचोड़ ही लिखा था (?) ऐसे मौके पर जब बाबा रामदेव मीडिया में छाये हुए हैं ! शायद यही 'माया' है जो तथाकथित 'द्वैतवाद' अथवा 'अनंत्वाद' द्वारा 'परम सत्य' (एकान्तवाद) तक पहुँचने के मार्ग से भटकाने का काम करती हैं...

डा० अमर कुमार said...

सच्ची और बेबाक टिप्पणी देने के लिये..
ईश्वर श्री आशीष श्रीवास्तव को खु़दा के कहर से बचाये । यहाँ सभी अपनी तरह के अनोखे खुदा हैं :-)

Kunwar Kusumesh said...

इस जानकारी को शेयर करने के लिए आभार!

Rajesh Kumari said...

felt one more jerk in
ignited mind against corruption after reading this article,written by any one,not bother but this the fact.we all have to come forward to support Baba Ramdev n Shri Anna hazare ji.

एस.एम.मासूम said...

ना सुनो ना पढो और ना देखो और ना लिखो. जब तक कोई इमानदार नेता सामने ना आ जाए.

Dr. Anwer Jamal said...

bilkul sahi kaha apne..सारगर्भित पोस्ट , आभार

25,000 houries 'हूरों की दुनिया में' अनवर जमाल का स्वागत हुआ गुलाब के फूलों से

Richa P Madhwani said...

http://shayaridays.blogspot.com

prerna argal said...

sachchai byakt karati hui saarthak aur bebaak lekh.badhaai sweekaren.sach kahane ki himmat sabme nahi hoti.

ZEAL said...

मेल चाहे TOI के एडिटर ने लिखी हो अथवा TOI के एडिटर के दुश्मन ने लिखी हो , इससे कोंई फरक नहीं पड़ता। जिसने भी लिखा है , कोई इमानदार , दिलेर और इन्साफ पसंद और स्पष्टवादी व्यक्ति है।

चेन-मेल हज़ारों होती हैं , लेकिन जो बात मुझे पसंद आएगी उसे मेरे ब्लौग पर स्थान अवश्य मिलेगा। इस मेल में जो भी लिखा है वो बिलकुल सही है। लोगों को appreciate करना चाहिए की किसी में इतना दम तो है लिखने का।

-------------------

कल , चार जून को बाबा रामदेव के द्वारा , काला धन वापस लाने के लिए किये जा रहे आन्दोलन में मैं पूरे ह्रदय से शामिल हूँ। बाबा का आन्दोलन सफल हो । काला धन वापस आये। उस धन से देश का विकास हो और गरीबों का जीवन स्तर ऊंचा हो।

चोर बेनकाब हों और भविष्य के चोरों को सबक मिले।

My best wishes are with Baba Ramdev , Anna Hazare ji and all Indians.

Let's welcome the revolution!...Let the corruption end !

.

JC said...

@ डॉक्टर अमर कुमार जी

आपने भी प्राचीन ज्ञानियों का कथन ही दोहराया, यानि एक और 'सत्य वचन' ही कहा, "... यहाँ सभी अपनी तरह के अनोखे खुदा हैं :-)",,, जबकि उन्होंने कहा था, "अहम् ब्रह्मास्मि" , अथवा, "शिवोहम/ तत त्वम् असी", यानी 'मैं सृष्टि-कर्ता हूँ', अथवा 'हम सभी शिव हैं (यानि अजन्मी और अनंत आत्माएं हैं' :)...

महाभारत की कथा / गीता में भी 'कृष्ण', (काला बांसुरी वाला), को दर्शाया गया है कहते कि जब भी 'धर्म की ग्लानी होती है, वे बार बार आते हैं' (कहावत है "न रहेगा बांस/ न बजेगी बांसुरी"!)...

और आज मीडिया में 'काले धन' की चर्चा से 'देवताओं के राजा इन्द्र का आसन' सा ही डोलता प्रतीत होता है, अब अन्ना हजारे और बाबा रामदेव के दोहरे आक्रमण के कारण... और दूसरी ओर सारा संसार ही चिंतित है 'काले सोने' के अत्याधिक प्रयोग से धरती की ही सेहत को ले कर ! आदि आदि...

सदा said...

बिल्‍कुल सच और सही कहा है ... इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

गिरधारी खंकरियाल said...

FAKE MAIL


One Prakash B Bajaj, who claims to be a resident of Mumbai, has addressed a letter to Prime Minister Manmohan Singh, misrepresenting himself as the editor of The Times of India.
We are not certain whether this letter was delivered to the Prime Minister’s Office but Bajaj has displayed this letter on his blog. This has resulted in several bloggers circulating the letter.
We hereby request our readers not to take cognisance of this and inform them that The Times of India Group dissociates itself totally from this letter. We are separately initiating legal action against Prakash B Bajaj.
Editor,
The Times of India

G.N.SHAW said...

जो भी हो पर टिप्पणिया मजेजार है !

प्रतुल वशिष्ठ said...

"सच्चाई छिप नहीं सकती बनावटी मेलों से.
खुशबू आ नहीं सकती कभी विषबेलों से."
यदि 'भावना' ... राष्ट्र सापेक्ष हैं तो कल्पित विचार [बनावटी मेल] भी स्वागत योग्य हैं.

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

देश की वर्तमान दुर्दशा को , आम आदमी के क्षोभ को , विषैली राजनीति के दंश को और भ्रष्टाचार के नंगे नाच को चित्रायित करने वाला यह पत्र चाहे टाइम्स ऑफ़ इंडिया के संपादक ने लिखा हो या किसी और ने , उसका साहस सराहनीय है |

Jyoti Mishra said...

This should be published in each and every newspaper and magazine.

Adorable piece of work!!!
It represents the millions of tonnes of anger buried in the heart of Indians.

Ravikar said...

बाबा का आन्दोलन सफल हो । काला धन वापस आये।

vishay mahatvpurn hai,
na ki bahas....kiska hai?

संतोष त्रिवेदी said...

आपके द्वारा प्रस्तुत पत्र का उद्देश्य अच्छा है ,पर यदि व्यंजन में है तो इसका संकेत भी होना चाहिए!
बाबा रामदेव के प्रति आपकी निष्ठां अच्छी है,भ्रष्टाचार का मुद्दा भी अच्छा है पर बुरा यही है कि इस मुद्दे को उठानेवाला अन्ना हजारे या केजरीवाल या किरण बेदी जैसा होना चाहिए न कि अकूत संपत्ति अर्जित करने वाला ,विशुद्ध रूप से व्यवसायी एक योगी !

chirag said...

nice post
really like it
its time to go against the corruption now

ZEAL said...

.

मुझे तो इस बात पर तरस आ रहा है की जिसने भी इतनी शानदार मेल लिखी , उसने इसका सारा श्रेय TOI के एडिटर को क्यूँ दे दिया।

खैर लोगों को मेल में लिखा क्या है , ये पढना चाहिए न की विवाद करें की किसने लिखा है। मेल में लिखे जज़्बात आम जनता की आवाज़ हैं।

आम खाइए , गुठलियाँ व्यर्थ ही गिन रहे हैं ।

.

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद said...

Nobody would be spared.... but when?

ZEAL said...

.

@--न कि अकूत संपत्ति अर्जित करने वाला ,विशुद्ध रूप से व्यवसायी एक योगी ...

------------

जब भोगी [सत्ता में बैठे भोगी] , देश की फिकर नहीं करेंगे तो योगी को ही भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ना होगा। बाबा रामदेव भी भारतीय नागरिक हैं। और देश-हित के लिए आवाज़ उठाना गुनाह है क्या ?

स्त्री हो या पुरुष , भोगी हो या योगी , हिन्दू हो या मुस्लिम , जो भी स्वयं को भारतीय समझता है , उसे इस मुहीम में बाबा रामदेव का साथ देना ही चाहिए।

.

mahendra verma said...

ऐसा हर अखबार के एडिटर को लिखना चाहिए।

JC said...

योगी यानि बाबा रामदेव की उपस्थिति और एक आवश्यक रोल को समझने के लिए यदि हम संक्षिप्त में कहें तो हमें पता है कि प्राचीन हिन्दुओं ने प्रकृति को हमसे बेहतर समझा,,, और जीव की उत्पत्ति को आम आदमी के लिए चार चरणों में देवताओं और राक्षशों के संयुक्त प्रयास से संपन्न किये गए 'क्षीर-सागर मंथन' द्वारा दर्शाया - विषैले पर्यावरण से आरम्भ कर देवताओं यानि सौर-मंडल के सदस्यों के शुद्धिकरण पश्चात अमृत पाप्ति तक, जिस कारण वो आज साढ़े चार अरब वर्षों से शून्य में उपस्थित हैं... इस 'मंथन' को उन्होंने देवताओं के गुरु 'बृहस्पति' (जुपिटर ग्रह) की देख-रेख में किये जाते दर्शाया, जबकि विपरीत प्रकृति वाले राक्षशों के गुरू शुक्र (यानि विषैले वीनस ग्रह), शुक्राचार्य, माने जाते हैं, और शुक्र का मानव शरीर में स्थान गले में और बृहस्पति का नाभी में माना जाता है, और सूर्य का पेट, 'सोलर प्लैक्सस', में, जबकि पृथ्वी (गंगाधर शिव) से ही उत्पन्न चन्द्र का मस्तिष्क में, सांकेतिक रूप में उसे शिव के मस्तक पर भी दर्शा !)...

मानव शरीर की संरचना में आत्मा और सौर-मंडल के सार से बने शरीर का योग माना जाता है,,, और उनके बीच तथाकथित समन्वय सही न होने के कारण 'आध्यात्मिक' और 'भौतिक' विषयों पर अलग अलग सुझाव हेतु हिन्दू कहानियों में परम्परागत तौर से 'सूर्यवंशी' राजाओं, और 'कुरुवंशी' राजाओं के भी, दो गुरू दर्शाए जाते आ रहे हैं... द्वापर में क्रमशः विदुर और द्रोणाचार्य, और त्रेता में वशिस्ठ और विश्वामित्र ... वर्तमान में हमारी गैलेक्सी के केंद्र में स्थित 'ब्लैक होल', यानि उसके अत्याधिक गुरुत्वाकर्षण, और उसके चारों ओर घूमती हुई तस्तरिनुमा गैलेक्सी के बाहरी ओर स्थित हमारे सौर-मंडल के केंद्र में स्थित उसकी तुलना में कम विभिन्न गुरुत्वाकर्षण शक्तियों के बीच खिंचाव से सम्बंधित शक्तियों द्वारा हम कुछ कुछ अनुमान लगा सकते हैं (गीता में कृष्ण कहते हैं कि सूर्य और चन्द्र उनसे ही प्रकाशित हैं)... आदि आदि...

ZEAL said...

.

आजकल शाहरुक खान और सलमान खान ने भी रामदेव के खिलाफ मुहीम चला रखी है । उनका कहना है की बाबा योगी हैं , उन्हें आन्दोलन नहीं करना चाहिए, क्यूंकि वो योगी हैं । शाहरुख़ कहते हैं उन्हें लोग इसलिए पसंद करते हैं क्यूंकि वे 'दर्दे डिस्को' गाते हैं , वे राजनीति नहीं करते । अब इन्हें कौन समझाए की कितने ही अभिनेता , नेता बने हुए हैं । क्या सबको राजनीति से बाहर आकर पुनः "दर्दे डिस्को" गाना चाहिए।

अब इन विद्वानों को कौन समझाए, जो अपने इतिहास को ही भली प्रकार नहीं जानता। जो नेतृत्व करता है , उसमें क्या क्या गुण होने चाहिए।

बाबा यदि पैंट-शर्ट पहेनकर , बड़का बाबू बनकर , अंग्रजी में व्याख्यान दे दें तो योगी नहीं रह जायेंगे , भोगी बन जायेंगे ? और तब उनका आन्दोलन जो देश-हित में हैं , वो उनके व्यक्तित्व पर फबने लगेगा ?

क्या बाबा का गुनाह सिर्फ इतना है की वे गेरुआ वस्त्र पहनते हैं ? अपने भारतीय संस्कृति के अनुसार आचरण करते हैं ?

क्या स्वामी-विवेकानंद एक योगी नहीं थे ? एक संत नहीं थे ? एक तपस्वी नहीं थे ?

क्या महात्मा गांधी , एक संत नहीं थे जिन्होंने देश के लिए लड़ाई लड़ी ?

क्या नेताजी बोस भी एक संत और एक योगी नहीं थे ?

नेता वही है जो शासन करना जानता है , जो देश-हित में तत्पर रहता है । और करोड़ों के दिलों पर राज करता है।

आप नेता किसे कहेंगे ? जो अरबों के घोटाले कर रहा है ? क्या राजा और कलमाड़ी को हक है ऐसे आन्दोलनों का ?

क्या आजकल के फर्जी संत जो प्रवचन करते हैं और underground अपनी ऐय्याशी की दूकान चलाते हैं । आप उनके समर्थक हैं ?

आखिर कुछ मुट्ठी भर लोगों को बाबा रामदेव के भ्रष्टाचार के खिलाफ और काला धन वापस लाये जाने के खिलाफ आन्दोलन से इतनी परेशानी क्यूँ है ?

- क्या ये लोग भ्रष्टाचार चाहते हैं ?
-क्या ये देशद्रोही हैं ?
-क्या है काला धनखोरी में शामिल हैं ?
- क्या नाम जाहिर होने पर इन्हें डर लग रहा है ?
- बाबा की खिलाफत करके ये कहना क्या चाहते हैं ? की काला धन बाहर ही रहने दो ? भारत देश को गरीब ही रहने दो ? किसानों को भूखे मरने दो ?
- क्या राजा और कलमाड़ीयों को पनपने देना चाहिए ?

ये क्रांति का दौर है। चाहे मिस्र हो या भारत । सत्य की आवाज़ को कोई दबा नहीं सकता। चोरों का मुंह काला और सत्यवादियों का बोल-बाला होगा ही होगा।

सत्य की जय हो !
भारत माता की जय।

.

प्रतुल वशिष्ठ said...

दिव्या जी,
आपकी आज की वाणी में भरपूर ओज समाहित है.. बरकरार रखियेगा.
रामदेव जी के बहाने से हो रही इस उपजी क्रान्ति को ठंडी नहीं होने देंगे.

JC said...

बॉलीवुड तो 'मायावी जगत' है जहां पहले कुछेक आम कलाकार, प्रकृति की कृपा से देखने में सुन्दर और गले के धनि (शुक्र, पश्चिम में सुन्दरता का प्रतीक माना जाता है, और जैसा मैंने कहा प्राचीन हिन्दुओं ने उसका स्थान गले में दर्शाया), अन्य ज्ञानी व्यक्तियों, कहानीकारों, की लिखी पंक्तियाँ रटते और उनको दोहराते दोहराते दर्शकों के मानस पटल पर एक विशिष्ट व्यक्ति की छाप छोड़ जाते हैं जिसका रोल वो आम तौर पर निभाते हैं... जैसे एक अकेला हीरो पर्दे पर अकेले ही सात आठ गुण्डों को निहत्था धराशायी कर देता है, जबकि आम जीवन में ८ मक्खी भी शायद न मार सकता हो, और 'तीस मार खां' बन जाता है :)

(सदी के महानतम कलाकार अमिताभ बच्चन भी 'कुली' की शूटिंग के दौरान ऐसे घायल हुए कि जीवन-मृत्यु के बीच उनकी नैय्या डोलने लगी और सम्पूर्ण भारत वासी तब मंदिरों में पूजा करने लग पड़े थे, और शायद उनकी दुआ से वे बच गए उनके मनोरंजन हेतु :)...

गले का धनि, वर्तमान में नेता का रोल कर रहा हो या अभिनेता का, तथाकथित काले धन का भी (मिथ्या जगत में) धनि बनता प्रतीत होता है जो अधिकतर पश्चिम में गुप्त धन बन जाता है... हिंदू मान्यतानुसार काल चक्र के अनुसार युग विशेष की प्रकृति पर निर्भर, जहां पश्चिम दिशा के शैतान राजा सूर्य-पुत्र शनि ग्रह का मित्र, शुक्र ग्रह भौतिक संसार के स्रोत का प्रतिबिम्ब माना जाता है, और वर्तमान में उसके वातावरण में विष व्याप्त है...

और क्यूंकि ब्रह्मनाद से ही साकार की उत्पत्ति होना माना जाता है, और ध्वनि ऊर्जा का स्रोत मानव में कंठ अथवा गला ही है... किन्तु अनादि काल से उच्च स्थान पृथ्वी-चन्द्र, यानि कान और आँख को ही दिया जाता आ रहा है जो सुनते-देखते हैं किन्तु स्वयं वर्णन नहीं कर सकते, और व्यक्ति की क्षमतानुसार उसके मस्तिष्क में प्राप्त सूचना का विश्लेषण कर गले द्वारा बोल कर अथवा हाथ को प्रस्तुति का कार्य 'प्रकृति' (अथवा निराकार ब्रह्म) द्वारा सौंपा गया है...

ashish said...

देश को जरुरत है भर्ष्टाचार रूपी दैत्य से लड़ने वाले शूरवीरों की , बाबा रामदेव ने अलख जगाया है , उम्मीद है की ये चिंगारी , जन आन्दोलन बनेगी

Sunil Kumar said...

ek jaruri post abhar ...

BK Chowla, said...

I wont be surprised if this letter has to be cleadred before gets to read it

सञ्जय झा said...

@आजकल शाहरुक खान और सलमान खान ने भी रामदेव के खिलाफ मुहीम चला रखी है...................................

'sharmnirpekshta ki koi had nahi hoti'..........

alkh jagaye rakhen........

pranam.

सुज्ञ said...

राष्ट्र हित है तो उद्धार कोई भी करे, बस साहस और सुधार की भावना होनी चाहिए।
बाबा की संस्थाओं की अकूत सम्पति भ्रष्टाचार उपार्जित नहीं है।
यदि बाबा कायरों और भ्रष्ट नेतृत्व को ओवरटेक कर आगे आते हैं तो

देश हित चाहने वालों को तो… सही कहा कि……
"आम खाइए , गुठलियाँ व्यर्थ ही गिन रहे हैं ।"

किन्तु श्रेय यह योगी क्यों ले जाय? लोगों की यही परेशानी है। क्योंकि कोओं का ध्यान तो बोटी पर ही रहेगा।

नूतन .. said...

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

JC said...

जैसे क्रिकेट के खेल में भी कभी कभी जब तक आखिरी गेंद फैंकी नहीं जाती, अथवा आखिरी विकेट गिर नहीं जाती, कुछ भी नहीं कहा जा सकता कि जीत किसकी होगी, ऐसे ही राजनीतिज्ञों के भी अंतिम क्षण तक दांव-पेंच (साम, दाम, दंड, भेद) चलेंगे ही, जिस कारण कह नहीं सकते 'ऊँट किस करवट बैठेगा'... अन्ना हजारे ने भी अपने अनुभव के आधार पर चेतावनी दी है बाबा को नेताओं के वादे से पलट जाने की आदत की...

अनादिकाल से चली आ रही कहावत है, "सत्यम शिवम् सुन्दरम ('शिव ही सत्य है और शिव ही सुंदर है', जिसमें 'शिव' विष का उल्टा, यानि अमृत 'परम आत्मा', अथवा उसका एक अंश 'आत्मा' है जो सारे साकार रूपों के भीतर शक्ति रूप में विद्यमान है),,, और "सत्यमेव जयते" ('सत्य की जीत होती है', अर्थात अजन्मे और अनंत शिव, परमात्मा, अमर हैं !)...

कलियुग का अंत और सतयुग का आरंभ, अथवा ब्रह्मा की रात्रि का आरंभ, निर्भर जाना गया काल-चक्र के चरण पर...वर्तमान में इतना तो अवश्य जान लिया गया है कि हमारे सौर-मंडल की आयु लगभग साढ़े चार अरब वर्ष हो गयी है, अर्थात सूर्य यानि ब्रह्मा का एक दिन लगभग पूरा होने जा रहा है (जिसके पश्चात उनकी रात का आना निश्चय होता है, और जब सब आत्माएं भी सो जाती हैं, और जहाँ से वो ब्रह्मा के नए दिन के साथ फिर उसी स्तर से काल-चक्र में घूमने लगती हैं जब तक वो अंततोगत्वा शिव में मिल न जाएँ, यानि जन्म-मृत्यु से छुट्टी, जो आत्मा का लक्ष्य माना गया !)...

यादें said...

बाबा रामदेव जी को शुभकामनाएँ |

जो दिल ने कहा ,लिखा वहाँ
पढिये, आप के लिये;मैंने यहाँ:-
http://ashokakela.blogspot.com/2011/05/blog-post_1808.html