Saturday, August 24, 2013

दोहरी मानसिकता

९९ % आतंकवादी और बलात्कारी मुस्लिम क्यों होते हैं ? मुम्बई गैंग रेप के चार बलात्कारियों के नाम हैं -- अब्दुल, कासिम, अशफ़ाक और सलीम!

अब इन कुकर्मियों पर "राष्ट्रीय सेक्युलर-हिंजडा पार्टी" चुप क्यों है?

अभी कोई हिन्दू होता तो बलात्कार से बड़ा हिन्दू का धर्म हो जाता , मुस्लिम हैं तो कहेंगे बलात्कारियों का कोई धर्म नहीं होता !

दोगली सरकार !
Double standards !

9 comments:

surenderpal vaidya said...

सही कहा आपने इस देश की सरकार के साथ सभी तथाकथित धर्मनिरपेक्ष तत्व हिन्दू विरोध के शर्मनाक एजेंडे पर ही काम कर रहे हैं।

भारतीय नागरिक said...

हर मौके के लिये एक चेहरा है मीडिया के पास.

प्रतिभा सक्सेना said...

ये कौन सी नई बात है ?

Devdutta Prasoon said...

नेटवर्क की सुविधा से लम्बे समय से वंचित रहने की कारण आज विलम्ब से उपस्थित हूँ !
भाद्र पट के आगमन की वधाई !!
यथार्थ कथन के लिये वधाई !!
अच्छी रचना !

Devdutta Prasoon said...

नेटवर्क की सुविधा से लम्बे समय से वंचित रहने की कारण आज विलम्ब से उपस्थित हूँ !
भाद्र पट के आगमन की वधाई !!
अच्छी रचना के लिये वधाई !!

Sudhanshu Awasthi said...

सही कहा आपने दिव्या जी , 2 दिन तक न टी मीडिया एवं न ही मुंबई पुलिस ने इन बलात्कारियों के नाम जाहिर किये । हाँ अगर हिन्दू समाज का आसाराम होता तो लाइव डिबेट से ले कर ब्रेकिंग न्यूज़ पर हर जगह विश्लेषण शुरू हो जाता । एक बात और सोंचने वाली है कि आज तक सिर्फ हिन्दुओं की बहू बेटियों के साथ ही दुष्कर्म क्यों होता रहा है ?

अजय कुमार झा said...

चंद पोस्टों तक जाती एक गली , जिसमें हमने आपका एक ठिकाना भी सहेज़ लिया है , और उसके साथ एक मुस्कुराहट के लिए चंद शब्द जोड दिए हैं , आइए मिलिए उनसे और दोस्तों के अन्य पोस्टों से , आज की ब्लॉग बुलेटिन पर

गिरिजा कुलश्रेष्ठ said...

यह तो हैरान कर देने वाला तथ्य है क्योंकि सचमुच अपराधियों के नाम नही बताए गए हैं ।।

मदन मोहन सक्सेना said...

खुबसूरत रचना