Thursday, April 23, 2015

सपने मरते नहीं हैं कभी...

सपने अधूरे भले ही रह जाएँ,
लेकिन मरते नहीं हैं कभी !
मुझसे तो मेरे मरने के बाद भी 
मुझे हिला कर पूछ लेना,
यही आवाज़ आएगी ...
"हाँ, फिर से शहर बदला है 
और फिर से उम्मीद जागी है "

4 comments:

Kailash Sharma said...

बिलकुल सच, सपने कहाँ मरते हैं...बहुत सटीक..

सूबेदार जी पटना said...

सपने देखने वाले उसके लिए प्रयास कराते हैं इस लिए मरते नहीं ---- आपकी पोस्ट पर बहुत दिन बाद आया
धन्यवाद

dr.mahendrag said...

सपने मर जायेंगे तो समाज की तरक्की ही रुक जाएगी

Anonymous said...

It's amazing to go to see this web site and reading the
views of all mates on the topic of this post, while I am also keen of getting experience.


My homepage; CharleenCRuzicki