Wednesday, August 31, 2011

ब्लॉगजगत में लेखन की चोरी अफसोसजनक है

एक वरिष्ट ब्लॉगर शुभचिंतक का मेल मिला जिसमें उन्होंने सूचित किया की मेरे आलेख चोरी करके कोई अपने ब्लॉग पर लगा रहा है उस ब्लॉगर का ही कोई नाम है , ही कोई प्रोफाइल है। उसने अब तक मेरे ८०-९० आलेख चोरी करके अपने ब्लौग पर लगा रखे हैं। मेरा आलेख प्रकाशित होने के थोड़ी देर बाद ही वह आलेख उसके ब्लौग पर लग जाता है। उसके ब्लौग पर टिप्पणी का भी कोई आप्शन नहीं है। उस ब्लॉग पर लेखों की तीन श्रेणियां बना रखी हैं। ( adult, General और uncategorised) पहली श्रेणी में अत्यंत गन्दी सामग्री का संकलन है। मेरे सारे आलेख 'General' श्रेणी के अंतर्गत संकलित हैं मेरे अतिरिक्त अन्य बहुत से ब्लॉगर्स के आलेख चोरी करके वहाँ पर लगे हुए हैं। हिंदी और अंग्रेजी के अतिरिक्त कुछ अन्य भाषा के आलेख भी चोरी से वहां प्रकाशित किये गए हैं।

उन आलेखों पर विज्ञापन लगाकर वह धन कमाने के लिए साहित्यिक चोरी कर रहा है

उस ब्लॉग का लिंक है--http://hindistories.x10.mx/?p=471




1-http://hindistories.x10.mx/?p=471

2-ब्लॉगजगत में लेखन की चोरी अफसोसजनक है
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search

3-शहीद अरुण दास को विनम्र श्रद्धांजलि
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=2

4-महाप्रयाण
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=3

5-हमारी सबसे बड़ी दौलत , हमारे बुज़ुर्ग
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=4

6-एक श्रेष्ठ ब्लॉगर और व्यक्तित्व ,डॉ अमर कुमार का निधनविनम्र श्रद्धांजलि.
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=5

7-व्यक्ति बड़ा है या मुद्दा ?
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=6

7-नेह निमंत्रण इकलौता
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=7

8-७३ साल के सत्याग्रही से डरी सरकार

9"मन का मीत" — Soulmate
http://hindistories.x10.mx/?p=213

------------

उन्मुक्त जी का आलेख --

10-फैंटम, टार्ज़नयह कौन हैंसाउथ अफ्रीकन सफारी
http://hindistories.x10.mx/?p=386

------------------------------------------------------

क्या इस समस्या का कोई निदान है ?

चोरी करने से तो बेहतर है ब्लौगिंग की जाए। चोरी का लेखन प्रकाशित करके वह ब्लॉगर स्वयं को कलंकित कर रहा है और साथी ब्लॉगर्स के साथ अन्याय।

Zeal

83 comments:

जाट देवता (संदीप पवाँर) said...

अब इसमें एक बात तो
उस बंदे ने सही कर दी है कि कम से कम आप का नाम का लिंक तो दे दिया है फ़िर चोरी कैसे कहोगे,
रही बात, अब अगर आप उसका कुछ बिगाड सकती है तो बिगाड लिजिए, कोर्ट कचहरी, के चक्कर,
अब अगर आपको पता चल भी जाये कि चोरी करने वाला अफ़्रीका में रहता है तो क्या आप वहाँ लडने जायेंगी। नहीं जायेगी,
इसलिये नेकी कर कुएँ में डाल वाली बात पर अमल करते रहो,
ऐसी ही अहि ये ब्लॉग की दुनिया।

मैंने तो ज्यादा दिन से लिखना शुरु नहीं किया है, लोग फ़ोटो/लेख चोरी करते है,
तो हम कुछ नहीं कर सकते है?
हाँ अगर आप को लगता है कि कोई लेखा किसी के हाथ में ना पडॆ तो उसे पब्लिश ही मत करो,
अपने पास सुरक्षित रखो, दूसरों को दिखाओगे तो चोरी होना आसान है,

ZEAL said...

@ जात देवता- उस एक आलेख में शायद उससे गलती से मेरा नाम कॉपी पेस्ट हो गया है , अन्यथा मेरे अन्य लेखों में उसने मेरा नाम कहीं नहीं लिखा है। मेरे अतिरिक्त , उन्मुक्त जी के बहुत से आलेख एवं अन्य ब्लॉगर के आलेख भी चोरी से वहां प्रकाशित हैं , जिसमें से किसी का भी नाम नहीं दिया गया है। आपने शायद पीछे जाकर और आलेखों को चेक नहीं किया। खैर आपकी प्रतिक्रिया का धन्वाद।

केवल राम : said...

मैंने इस ब्लॉग को देखा .....लेकिन मन बहुत उदास हो गया .....ऐसे लोगों की मानसिकता का क्या किया जा सकता है ......बहुत ही अश्लील सामग्री और घटिया तरह की पोस्ट्स .....आपका कहना सही है ....!

Ratan Singh Shekhawat said...

अब चोरों का पता लग भी जाये तो भी इन बेशर्मों का क्या करे|
अब देखिये मेरे लेख इन पत्रकार महोदय ने अपने ब्लॉग पर चिपका रखे है विरोध जताने के बाद भी इन्होने कोई जबाब नहीं दिया|जबकि अपने आपको ये muktakantha & delhi special(weeekly)का एडिटर बताते है
http://www.blogger.com/profile/04877463731116222930

Ratan Singh Shekhawat said...

और ये लिंक ज्ञान दर्पण से चोरी किये पोस्ट का
http://anamisharan.blogspot.com/2011/08/blog-post_4357.html

mahendra verma said...

बहुत गलत है ये ।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर। अन्ना जी की टोपी का इन पर कोई असर नहीं होने वाला है!

--
भाईचारे के मुकद्दस त्यौहार पर सभी देशवासियों को ईद की दिली मुबारकवाद।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

कहीं से भी सामान उठाओ, लेकिन मालिक का नाम तो जरूर दो. बिना नाम पता दिये तो बिल्कुल गलत है..

ashish said...

हम भर्त्सना करते है साहित्यिक चोरियों की .

ajit gupta said...

बौद्धिक चोरी तो हमेशा से ही होती रही है और होती रहेगी। आखिर एक लेखक का उद्देश्‍य क्‍या होता है? वह चाहता है कि मेरे विचार लोगों के मन में घर करें तो ऐसे चोरी करने वाले लोग आपके विचारों को प्रसारित कर रहे हैं तो करने दीजिए। कुछ किया तो जा नहीं सकता है, फिर आनन्‍द ही लीजिए।

JC said...

दिव्या जी, यह तो संकेत हैं... ब्लॉग जगत आरम्भिक प्रतिबिम्ब है भौतिक संसार का, 'मिथ्या जगत' का, जहां वर्तमान में चोरी ही नहीं डाके भी पड़ते रहते हैं, और न जाने क्या क्या!...परन्तु वहां कानून तो कम से कम है,,, जबकि यहाँ कोई कानून नहीं है, और इन्टरनेट में साइबर कानून हैं भी तो वो अभी बहुत आरम्भिक स्थिति में हैं (क्यूंकि हम घोर कलियुग में हैं)...
"मजबूरी का नाम महात्मा गाँधी"...(और आजकल, काल के कारण, सरकार, नहीं तो कम से कम उसका सर अर्थात शीर्ष ?)...
गीता में इसी लिए दृष्टा भाव से स्थितप्रग्य रहने की सलाह दे गए 'कृष्ण' वास्तविक करता जो कहता है की तीनों लोक में उसके लिए पाने के लिए कुछ नहीं रह गया है, फिर भी वो प्रति पल काम करता रहता है क्यूंकि वो रुका तो साड़ी प्रकृति जो उसकी नक़ल कर रही है, रुक जायेगी (अनंत करिहन लीला समाप्त हो जायेगी)...

शालिनी कौशिक said...

दिव्या जी,ये वास्तव में दुखद घटना है यहाँ सभी अपने विचारों की स्वतंत्र अभिव्यक्ति के लिए आते हैं और ऐसे में दूसरे के विचारों की चोरी तो बिलकुल ठीक कही नहीं जा सकती उनके खिलाफ कोई कार्यवाही तो होनी ही चाहिए अगर हो सके तो हम में से जो ब्लोगर उनके फोलोवर हैं उन्हें उससे हट जाना चाहिए.
आया खुशियों का पैगाम -ईद मुबारक

देवेन्द्र पाण्डेय said...

बहुत अफसोसनाक । चोरी कुछ प्राप्ति के लिए की जाती है। यहां तो चोरी से सिवाय बदनामी के कुछ भी हासिल होता नजर नहीं होता फिर वो क्यों चोरी कर रहा है..? कहीं यह किसी मानसिक बिमारी का सूचक तो नहीं..!

जयकृष्ण राय तुषार said...

डॉ० दिव्या जी यह बहुत ही घिनौना और दंडनीय कृत्य है |जानकारी के लिए आभार

कुश्वंश said...

बेफिक्र रहिये दिव्या जी , साहित्य को फैलने दीजिये , जैसे हमें किसी अखबार या पत्रिका में प्रकाशित होने पर सुखद लगता है वैसा ही इसे भी समझिये . आपके विचार बृहद आयाम ले रहे है . हा वो एक आपत्तिजनक ब्लॉग है जो देखने लायक ही नहीं है और निश्चित तौर पर ये एक अपराध है जो खुलेआम इन्टरनेट पर घूम रहा है मगर इस अपराध पर सब बेबस है

डॉ टी एस दराल said...

टिपण्णी का भी ऑप्शन नहीं है !
फिर तो दिव्या जी , यह कोई भक्त है जो इन वरिष्ठ ब्लोगर महाशय के लेखों का संग्रह कर रहा है ।
अब इसमें तो कोई बुराई नहीं ।

यदि मज़ाक छोड़े तो निसंदेह यह एक भर्त्सनीय क्रिया है ।

प्रवीण पाण्डेय said...

दुर्भाग्यपूर्ण।

ताऊ रामपुरिया said...

इन लोगों का क्या कर सकते हैं? गूगल को रिपोर्ट करें तो शायद कुछ हो सकता है, पर सवाल यही है कि अन्ना कौन बने? कुछ नही हो सकता यह तो शायद ठीक नही है.

हमारी तो सारी पोस्ट्स खूंटे सहित ये लोग पिछले तीन साल से उखाड ले गये. और मजे की बात गूगल सर्च में हमारी पोस्ट की सर्च इनके बाद आती है.

रामराम.

प्रतुल वशिष्ठ said...

गंगा की धार एक गंदे नाले में मोड़ ली जाये तो भी वह कहलायेगा नाला ही.
यदि कोई पारसमणि चुरा कर अपने बूचड़खाने में रख ले तो पारसमणि ही निरुपयोगी कहलायेगी.
मलयज गंध से यदि कोई अपने कुकर्मों की बदबू दूर कर लेने का जुगाड़ कर ले तो भी मलय गिरी का अस्तित्व मिटने वाला नहीं.

.... निश्चिन्त रहें दिव्या जी... "दुष्ट भी तेरे पुजारी."

Kajal Kumar said...

कुछ नी ओ सक्ता.

सतीश पंचम said...

ब्लॉगर में एक फीचर होता है - ई मेल के जरिये पोस्टिंग जिसमें कि एक विशेष मेल आई डी पर मेल भेजने पर तुरंत ही वह मेल पोस्ट के रूप में ब्लॉग पर दिखने लगेगी।

लगता है जिस बंदे ने यह कंटेंट छापा है उसने आपके लेखों को सब्सक्राईब किया हुआ है जिससे कि जैसे ही आप पोस्ट लिखकर पब्लिश करती हैं वह सीधे उस विशेष मेल आई-डी पर जाता है और स्वत: पब्लिश होकर उस ब्लॉग पर दिखने लगता है। इसमें एक बात यह देखने में आई है कि यदि आप अपनी पोस्ट के नीचे अपना नाम लिखते हैं तो वह भी जस का तस दिखेगा। इसलिये कोशिश किजिये कि अपने हर लेख के अंत में अपना नाम जरूर लिखें ताकि यदि ऐसे चोर कंटेंट को ऑटोपब्लिश करें तब भी आपका नाम अंत में लेख के साथ दिखे।

चोरी रोकना पूरी तरह से संभव नहीं है लेकिन अपनी ओर से यह सावधानी बरती जा सकती है।

prerna argal said...

सबसे पहले दिव्याजी आपको ऐसी जानकारी देने के लिए धन्यवाद देती हूँ /पर ये तो बहुत गलत बात है की किसी की रचनाओं की चोरी करके अपने ब्लॉग में लगाना /परन्तु उनको सबक सिखाने के लिए कोई उपाय भी नहीं है /भगवान् से प्रार्थना है की उन्हें सद्द्बुधि दे/की वो ऐसा गलत काम करना बंद कर दे /
दिव्याजी आपको ईदकी मुबारकवाद और गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं /

Rakesh Kumar said...

बहुत ही शर्मनाक व निंदनीय कार्य है दूसरों की पोस्ट चोरी करना.
सतीश पंचम जी का सुझाव अच्छा है.

अमित श्रीवास्तव said...

unfortunate,o god ! forgive them,they know not, what sin they are committing..

Bhushan said...

O' God! forgive them not, for they know what they are doing.

Jyoti Mishra said...

This is ridiculous... a scumbag deed

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आपका यह लेख भी वहाँ पर प्रकाशित है ... पंचम जी का सुझाव अच्छा लगा

रचना said...

i could not see any advertisement and neither i could see any other bloggers articles
if you can put some more links from other bloggers it would be better to understand
in settings make shortfeed available

वर्ज्य नारी स्वर said...

सुन्दर शिक्षा

अजय कुमार said...

शर्मनाक और दुर्भाग्यपूर्ण

यादें said...

दिव्या जी,
शर्मनाक और अफ़सोस-जनक...
ये कैसी मानसिकता है ,दिखावा हमेशा दुःख का कारण बनता है ...

आशीर्वाद!

रविकर said...

बहुत ही शर्मनाक ||

बहुत सुन्दर --
प्रस्तुति |
बधाई |

Ram Shiv Murti Yadav said...

हमारे ब्लॉग यदुकुल से तो चोरी कर कईयों ने नए ब्लॉग बना लिए, फेसबुक पर विभिन्न ग्रुपों में छापने लगे और तो और कई पत्र-पत्रिकाओं में भी धड़ल्ले से दूसरों के नाम से छापने लगे. अभी इक पत्रिका की करतूत के बारे में हमने यदुकुल पर लिखा तो, संपादक ने माफ़ी मागते हुए तीन पेज में माफीनामा छापा. कई ब्लागर तो ऐसी हरकतें इसलिए करते हैं कि इसी बहाने उनका ब्लॉग चर्चा में रहे और लोग न चाहते हुए भी उसे पढ़ें...खैर, निंदनीय कार्य है यह सब. ब्लागिंग ने व्यक्ति की रचनात्मक मौलिकता पर हमला किया है, इसमें कोई शक नहीं. गूगल द्वारा यहाँ की चोरी तो आप पकड़ सकते हैं, पर ब्लॉग और इंटरनेट से चोरी कर तमाम पत्र-पत्रिकाओं में जो छप रहा है, उसका क्या करेंगें...??

www.yadukul.blogspot.com

अरूण साथी said...

sam sam......

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) said...

अत्यंत ही शर्मनाक और निंदनीय कार्य.

वन्दना said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
अवगत कराइयेगा ।

http://tetalaa.blogspot.com/

Kailash C Sharma said...

बहुत शर्मनाक और निंदनीय..

रेखा said...

वह व्यक्ति शायद हमारे विचारों को अपने पास में सुरक्षित रख रहा है . वह हमारे विचारों का उपयोग करे यह तो बहुत अच्छी बात है . यह एक सूचना के साथ हो तो लेखक का उत्साह वर्धन होता है .

JC said...

दिव्या जी, जो लिंक आपने दिया था, उस में केवल आपका बुजुर्गों के विषय वाली पोस्ट ही खुली... संभव है आपका यह ब्लॉग पढ़ अपनी गलती का आभास हो गया हो... "रघुपति राघव राजा राम / ... सबको सन्मति दे भगवान्"!

G.N.SHAW said...

लिंक पर भी गया ! बहुत - उलटा - पुल्टा मिला ! पढ़ने पर शर्म भी आई ! कचरे का पुलिंदा बना हुआ है ! अपने - अपने ब्लॉग सेकियुर करना ही बेहतर !

सुज्ञ said...

शर्मनाक और निंदनीय कृत्य है। वह भी एक अश्लील और विभत्स ब्लॉग पर। ऐसे चोरों का क्या किया जा सकता है?

मनोज भारती said...

ऐसे चोर से मेरा भी सामना हो चुका है। बूंद-बूंद इतिहास से पुरी-की पुरी पोस्ट उठा कर अपने ब्लॉग पर चस्पा कर दी। भगवान बचाए ऐसे चोरों से।

ZEAL said...

.

@--JC ji ,


1-http://hindistories.x10.mx/?p=471

2-ब्लॉगजगत में लेखन की चोरी अफसोसजनक है
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search

3-शहीद अरुण दास को विनम्र श्रद्धांजलि
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=2

4-महाप्रयाण
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=3

5-हमारी सबसे बड़ी दौलत , हमारे बुज़ुर्ग
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=4

6-एक श्रेष्ठ ब्लॉगर और व्यक्तित्व ,डॉ अमर कुमार का निधन –विनम्र श्रद्धांजलि.
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=5

7-व्यक्ति बड़ा है या मुद्दा ?
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=6

7-नेह निमंत्रण इकलौता
http://hindistories.x10.mx/?s=zeal&submit=Search&paged=7

8-७३ साल के सत्याग्रही से डरी सरकार

9"मन का मीत" — Soulmate
http://hindistories.x10.mx/?p=213

------------

उन्मुक्त जी का आलेख --

10-फैंटम, टार्ज़न … यह कौन हैं – साउथ अफ्रीकन सफारी
http://hindistories.x10.mx/?p=386

---------

अन्य ब्लॉगर्स के भी आलेख हैं जिनका नाम नहीं है, अतः पाता नहीं चल पा रहा। मेरे तकरीबन सभी आलेख यहाँ पर चोरी से लगाए गए हैं।

.

ZEAL said...

उस चोरी के ब्लौग पर ऊपर की तरह दाहिने कोर्नर पर 'सर्च' आप्शन है, वहां आप मेरा नाम लिखकर enter करेंगे तो मेरे सारे आलेख वहां स्वतः ही खुल जायेंगे। इसी प्रकार आप अपना नाम लिखकर अपने ब्लौग को भी वहां देख सकेंगे यदि होगा तो ।

रचना said...

http://x10hosting.com/contact.php

i could see the advts now there and the above link has abuse reporting email

need be contact them
i have found abuse reporting helps

smshindi By Sonu said...

बहुत शर्मनाक और निंदनीय!!

ईद मुबारक आप एवं आपके परिवार को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ.एक ब्लॉग सबका

ईद पर विशेष अनमोल वचन

Dr Varsha Singh said...

बहुत ही निंदनीय!!

ईद और गणेश चतुर्थी की आपको हार्दिक शुभकामनायें।

smshindi By Sonu said...

मैंने इस ब्लॉग को देखा जो अपनी सगी बहन का ना हो सका ऐसे चोरों का क्या किया जा सकता है? और जानकारी के लिए आभार

अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से 1 ब्लॉग सबका

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत बुरा...ईद मुबारक़

Maheshwari kaneri said...

बहुत ही निंदनीय कार्य है...बुरा लगा..

ईद और गणेश चतुर्थी की आपको हार्दिक शुभकामनायें।

Er. Diwas Dinesh Gaur said...

दिव्या दीदी, सच में ये बहुत निंदनीय है|
हाँ यह भी सच है कि हम यहाँ बैठे बैठे ऐसे चोरों का कुछ नही बिगाड़ सकते| बेहतर होगा कि आप अपने ब्लॉग को सुरक्षित कर लें, जिससे कोई भी आपके द्वारा लिखी गयी सामग्री को कॉपी कर चुरा न सके|
इसके लिए आपको एक लिंक भेज रहा हूँ| इसके द्वारा आप अपने ब्लॉग को सुरक्षित कर सकती हैं|

अशोक कुमार शुक्ला said...

आदरणीय महोदय यह समस्या शास्वत है आज ही मैने अमृता जी के बारे में एक पोस्ट लगाई जिसमें इस्तेमाल किये गये चित्र और सामग्री के साथ उस ब्लागर का नाम सम्मान सहित उल्लेख किया परन्तु भारतीय नारी ब्लाग पर प्रकाशित मेरे ही लेखों की कापी पेस्टिंग करके कुछ अन्य लोगों ने भी अमृता जी को याद किया परन्तु मेरे नाम या ब्लाग का उल्लेख करना उचित नहीं समझा । क्या करेंगें इसी व्यवस्था के साथ ही ब्लाग करना होगा। आमीन मैं समझ नहीं पा रहा हूँ कि उस ब्लागर को बधाई दूँ या उलाहना । काश! नाम या ब्लाग का उल्लेख करन मे भी थोडी सी तत्परता दिखातीं तो .... बहरहाल कोई बात नहीं मेरी शुभकामनाऐं हैं गुड लक

रश्मि प्रभा... said...

samay ka antar pramaan hoga, phir any log wahan likhen ki ye kiski rachna hai.... charcha manch per us blog ko ujaagar karen

Bikramjit said...

This is such a shame .. why do they do it ..

but its good you have highlighted it all ..

Bikram's

Suresh kumar said...

पता नहीं लोग किसी के ब्लॉग में क्यों चोरी करते है जब कुछ लिखना आता नहीं तो जरुरी तो नहीं लिखना ....
जरुर कुछ ऐसा होना चाहिए की कोई भी किसी के ब्लॉग से कुछ भी चुरा न सके ...

रोहित बिष्ट said...

निंदनीय एवं दुर्भाग्यपूर्ण।बड़ा चकित होता हूँ यह सोच कर कि इंसानी सभ्यता के उत्कर्ष के इस सफ़र में आदिम इच्छाएं कब तक अपने वजूद का एहसास कराती रहेंगी?सदियों से "तू डाल-डाल में पात-पात" का खेल चलता आ रहा है।यह तो'वर्चुअल-वर्ल्ड'है,असल दुनिया में भी लोग 'साहित्यिक चोरी' पकडे जाने पर उस पर 'प्रेरणा'
का लेबल चस्पा कर देते हैं।

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद said...

वह कोई चोर नहीं लगता बल्कि उसमें शिष्टाचार की कमी होगी। उसे लेखक का नाम दे देना चाहिए था लेख के साथ।

anu said...

सिर्फ अफ़सोस करने से कुछ नहीं होगा ....ऐसा कोई तो होगा जो इस बारे में कोई कदम उठा सके

--

anu

JC said...

मेरा अपना निजी ब्लॉग नहीं है, किन्तु मैं ६ + वर्षों से ब्लॉग जगत में लगभग प्रति दिन टिप्पणी लिखता आ रहा हूँ, पहले एक अंग्रेजी के ब्लॉग में, ब्लौगर विशेष की प्रार्थना पर,,, और साथ साथ विभिन्न अंग्रेजी / हिंदी ब्लॉग में भी ज्ञानोपार्जन हेतु...

इस दौरान मैंने कई विदेशियों के ब्लॉग में भी टिप्पणी छोड़ी हैं... उन में से एक विदेशी महिला का ब्लॉग था... एक अन्य देश के ज्ञानी टिप्पणीकार (ब्लॉग में बेनामी) के विचार देखने को मुझे भी मिलते थे और उसके साथ मैंने भी सत्य न जान अपने कई विचारों का आदान प्रादान किया था... किन्तु उस असंतुलित / विकृत मानसिक प्रकृति वाले टिप्पणीकार ने कालान्तर में अश्लील टिप्पणी, इमेल आदि से उसका जीना हराम कर दिया... हैक कर के उस की तसवीरें भी ले लीं... बेचारी ने 'ऍफ़ बी आई' तक में शिकायत की, kintu कुछ नहीं हुआ... उसने अपना ब्लॉग ही बंद कर दिया :(

तब मुझे याद आई प्रसिद्द रुसी लेखक फायडोरविस्की के एक उपन्यास (अंग्रेजी रूपांतर) में एक लाइन पढ़ी थी जो अच्छी लगी थी,,, हिंदी रूपांतर, "टट्टी को सूखने दो / गीली टट्टी को लात मारोगे तो बदबू आएगी"...

Raviratlami said...

पिछले दिनों रचनाकार की तमाम सामग्री को एक तरह से मिरर के रूप में दूसरी साइट पर छापा जा रहा था, तो कुछ उपाय किए गए -
1 - ब्लॉग फ़ीड को फुल की बजाय शॉर्ट रखें
2- राइट क्लिक डिसेबल करने अथवा कॉपी-पेस्ट डिसेबल करने हेतु कोई स्क्रिप्ट लगाएँ
3- डोमेन रजिस्ट्रॉर तथा विज्ञापनदाताओं को इस चोरी बाबत सूचना दें
4- गूगल एनॉलिटिक्स में गूगल सर्च से हटाने हेतु निवेदन दर्ज करें

ये सभी कोई पुख्ता उपाय नहीं हैं, फिर भी कुछ असर तो होता ही है.

Shah Nawaz said...

बिना इजाज़त किसी भी लेख को छापना, यहाँ तक की खबर भी नहीं करना बिलकुल गलत है.. इसे चोरी की संज्ञा देना सही है...

प्रतीक माहेश्वरी said...

क्या उस ब्लॉग को "Report Abuse" नहीं किया जा सकता क्या?
अगर ऐसा हो तो हम में से काफी लोग ऐसा कर के उस ब्लॉग को बंद करवा सकते हैं...

कविता रावत said...

badiya jaagruk karti post.
Ganesh chaturthi kee haardik shubhkamnayen,,

G Vishwanath said...

बधाई!
किसीने आप के लेखों को नकल करने योग्य तो समझा!
काश कोई मेरी टिप्पणियों की चोरी करता।
पर क्या करूं, नकल करना दो दूर, आपके सिवा कोई मेरी टिप्पणी पढता भी नहीं होगा।

क्षमा कीजिए, मैं मजाक कर रहा था। अब कुछ काम की बात करूँ।

अजीत गुप्ताजी, कुश्वंश्जी, टी एस दरालजी के विचारों से सहमत हूँ।
सतीश पंचमजी के सुझाव पर भी विचार किया।
मेरी राय में यदि आपका नाम वहाँ नहीं छपता तो आपके लिए बेहतर होगा क्योंकि वह एक गन्दा blog है और आपका नाम वहाँ न होना ही अच्छा है।
वैसे भी, यहाँ की टिप्पणियाँ पढकर वह सचेत हो जाएगा और आपका नाम मिटा देगा।
इस मामले में आप ज्यादा कुछ कर भी नहीं सकते।
Wordpress या eblogger को लिखकर आप उस blog को हटा सकती हैं पर कुछ समय के लिए ही।
किसी और नाम से वह फ़िर हाजिर जाएगा।
आपने सच की सार्वजनिक घोषणा कर दी है, हम सब को सचेत कर दिया है, वह काफ़ी है।
क्या पता भविष्य में उल्टा आप पर ही इलजाम लग सकता है कि आपने उस blog की नकल की है!

गणेश चतुर्थी के अवसर पर आपको और आपके सभी पाठकों को मेरी शुभकामनाएं
जी विश्वनाथ

ZEAL said...

.

विश्वनाथ जी ,
आपका कहना सही है , कल को मुझ पर ही इल्जाम लग सकता है , लेकिन उसकी परवाह नहीं , क्यूंकि मेरे ब्लौग पर आने वाले सभी लोग सच जानते हैं। लेकिन एक बात की चिंता अवश्य सता रही है की इतने गंदे और अश्लील ब्लौग पर मेरे आलेख संकलित न हों।

मुझे प्रतीक माहेश्वरी जी की बात उचित लग रही है , इस प्रकार की अश्लील सामग्री वाले ब्लौग को बंद करवा देना चाहिए।

मुझे चोरी की चिंता नहीं है। मेरे लेखों में ज्यादातर मेरे अपने अनुभव और भावनाएं होती हैं , जिन्हें कोई अपना साबित नहीं कर सकता।

मेरे आलेख चाहें जहाँ प्रकाशित हो , मुझे कोई आपत्ति नहीं है , बल्कि ख़ुशी ही होगी , क्यूंकि इससे मेरे विचारों का प्रचार ही होगा , जो की मेरे लेखन का उद्देश्य है।

लेकिन उस अभद्र और अश्लील ब्लौग पर अपने आलेख देखकर मन बहुत उदास है। कोई विकल्प न मिल पाने के कारण अत्यंत निराशा भी है मन में।

बहुत दुखी हूँ।

.

Rajesh Kumari said...

thanx Divya is lekh ke liye.yah padhne ke baad main us link me gai pahli post tumhaari dekhi doosri post ko dekhkar to mera khoon hi khol gaya itni gandi story usme lady ke liye mera naam rajesh joda gaya.isse yah samajh me aaya ki vah janta hai ki hume uske blog ka pata chal gaya hai.ho sakta hai usne google adsence liya ho jo bhi uske blog ko click karega google ki taraf se kuch kamishan uske account me jaayega means click pay option.uske blog me kisi ko bhi access karne ki jaroorat nahi.bahut hi nimn shreni ka aadmi hai.uska kuch kar bhi nahi sakte just ignore that.

ZEAL said...

.

आदरणीय राजेश कुमारी जी ,

मन अति क्षुब्ध है , इस प्रकार की अश्लीलता का प्रचार हिंदी ब्लॉग जगत में देखकर। बहुत से संस्कारी युवक युवतियां इस प्रकार के आलेख पडेंगे तो उनपर कुप्रभाव पड़ेगा। ऐसे ब्लौग को बंद कराने के प्रयास होने चाहिए। अपने ब्लौग को सुरक्षित करना तो ठीक विकल्प है , लेकिन चोरों और मानसिक रोगियों के पनपने पर भी तो पूर्ण विराम लगना चाहिए।

मेरा तकनीकी ज्ञान अत्यंत अल्प है , लेकिन यदि तकनीक के जानकार इस दिशा में कुछ प्रयास करें तो सार्थक परिणाम अवश्यम्भावी है।

मुझे अपने आलेख चोरी होने की तनिक भी चिंता नहीं है। लेकिन उस अश्लील ब्लॉग का बंद होना अत्यंत जरूरी है, ताकि कम उम्र पाठकों को उसके कुप्रभाव से बचाया जा सके।

.

ZEAL said...

.

आभारी हूँ आदरणीय उन्मुक्त जी की , जिन्होंने पत्र लिखकर इस 'चोरी-प्रकरण' से अवगत कराया।

--------------------

Unmukt to me

show details Aug 27 (6 days ago)

Divya ji
Some time ago my blog at http://unmukth.wordpress.com/ started getting
some visitors from the following website
http://hindistories.x10.mx/

When I checked up I found that they had copied all my articles from my
that website. My writings are copylefted and have no copyright so it
does not matter so far as my articles are concerned but I also found
some articles written by you. I think your writing is copyrighted so I
thought of informing you.

I must also warn you that most of the articles on the website are
pornographic. Your articles are under the heading general. One of your
article is at
http://hindistories.x10.mx/?p=471

The only difference seems to be that your articles appear without any
advertisement on this blog whereas my articles appear with
advertisements.
Unmukt


-------------------

Dr Divya Srivastava to unmukt.s

show details Aug 28 (6 days ago)

Respected Unmukt ji ,
Namaste

Thanks for writing me a mail regarding the site where my articles are being copied and published without the reference of the original author. I checked the link given by you, they have copied some 70-80 posts of mine under the heading 'general' . i have seen your posts also and many posts from some other good writers as well.

I am scared. I do not know what to do . Please guide me.

Awaiting your response.

regards,
Divya

--------------------------

Unmukt to me

show details Aug 28 (5 days ago)

Divya ji
So far as my articles are concerned I do not claim any copyright in
them. Anyone can publish them with my name or without my name. If anyone
does that then I can not complain. In fact I advocate this kind of
publishing.

My next post is about another blog that has copied almost all my posts
but thankfully is not a porn site but this is a porn site

I have no idea what can be done in this situation. Ravi Shahnker
Srivastava (raviratlami@gmail.com) or Dinesh Rai Dwivedi ji
(drdwivedi1@gmail.com) are better person to guide you. The other persons
whose articles are there may also help. It would be good to ask them.
Unmukt
- Show quoted text -

.

ZEAL said...

राजेश कुमारी जी ,
रवि रतलामी जी ने कुछ सुझाव दिए हैं, और उन्मुक्त जी ने दिनेश जी का ईमेल पता दिया है, जिसपर संपर्क करके आप कुछ विकल्प जान सकती हैं।

Atul Shrivastava said...

किसी का कोई लेख यदि बेहतर है और ऐसा लगे कि उसे दूसरों को बांटना चाहिए तो उसकी इजाजत लेकर उनके नाम से कहीं और प्रकाशित किया जा सकता है पर चोरी...... ये तो सरासर अपराध है......

कौशलेन्द्र said...

हे दिव्या देवी ! आपका कथन मिथ्या होने से स्वीकार्य नहीं है.
१- जिसे आपने चोरी कहा है वह चौर्यकर्म के नहीं अपितु बलात आहरण या दस्यु कर्म के अंतर्गत आता है अतः आपका आरोप प्रथमदृष्टया मिथ्या है. केस की पुनः ड्राफ्टिंग करें.
२- जो मूल्यवान है आहरण उसी का किया जाता है. मूल्यहीन को कौन पूछता है?
३- आप अपने विचारों को अधिकतम लोगों तक संप्रेषित करना चाहती हैं, यह साहित्यिक दस्यु आपके कार्य को सुगम करने में आपका सहयोग कर रहा है अस्तु प्रशंसा का पात्र है.
४- वैचारिक दस्युता, साहित्यिक चौर्यता, थीसिस मार देना, कम्पाइलेशन करना ...आदि आदि आधुनिक विकसित समाज के आभूषण हैं. अतः आप ऐसी घटनाओं से आनंद प्राप्त कीजिये. कल्पना कीजिये, किसी पार्टी में कोई महिला अचानक आपके सामने आ जाय जिसने आपके गहने चुरा कर पहने हों ....उसे देख कर कितनी सुखद अनुभूति होगी. हे देवी ! आप इतनी दुखी क्यों हैं जिस देश का संविधान ही चार देशों के संविधानों का कम्पाइलेशन हो ..इसके बाद भी अत्यंत प्रशंसनीय हो वहाँ जन आचरण में इसका अनुकरण कैसे नींदनीय हो सकता है ?
५- इस दस्यु ने अपना कोई परिचय नहीं दिया है अर्थात यह किसी दूसरे का लेखन अपने नाम से प्रकाशित कर अपना नाम प्रकाश में लाने का इच्छुक नहीं है. इसके दो उद्देश्य हो सकते हैं १- केवल विज्ञापन द्वारा धनार्जन करना, २- दूसरों के विचारों को एक मंच देना....बिना विचारक का उल्लेख किये. यानी यह वैदिक परम्परा का कोई अनुसरणकर्ता प्रतीत होता है.
६ - आप कहीं यह मत समझ बैठें कि यह तो जले पर नमक और छिड़क रहा है ...अस्तु हे देवी! आपके मन की शान्ति के लिए यह कथन मनन करने योग्य है-
" मनीषियों का उद्देश्य रहा है विचार सम्प्रेषण. वैदिक साहित्य का रचयिता कौन है ? उन्होंने कभी अपना नाम नहीं दिया ....नाम तो किसी भौतिक वस्तु की वह संज्ञा है जो कालान्तर में धुंधली पड़ने लगती है. विचार अमर है ...इससे क्या फर्क पड़ता है कि अमुक सत्य किसने कहा ...सत्य तो सत्य है .....कोई भी कह सकता है ...जो भी उसकी अनुभूति कर सके ....उसी का अधिकार है सत्य पर. "
कई साहित्यकार मुफलिसी में ही गुज़र गए. पर उनकी रचनाएँ छाप-छाप कर कई प्रकाशक धनवान हो गए. यह तो रीति है समाज की. वृक्ष लगाता है कोई ...फल खाता है कोई. अस्तु हे देवी ! अपने विषाद का परित्याग कर स्थिति को स्वीकार करते हुए, हर स्थिति में आनंद की अनुभूति करने का उपक्रम करें, निश्चित ही आपके कष्टों का निवारण होगा.

Anonymous said...

instamment a en etre debarrasse.

Anonymous said...

eine mit einem Diamant versehene

Anonymous said...

25 mg viagra [url=http://sildenafilusshop.com]list of legitimate canadian pharmacies[/url] viagra proofsafest place to buy viagra [url=http://shopnorxmed.com]Viagra Online[/url] buy viagra 100mgcialis generic vs brand [url=http://fast-tadalafil.com]Buy Cialis[/url] buy apcalis oral jelly schweizfree cialis no prescription [url=http://fastshipcialis.com]canadian pharm support group[/url] compare viagra cialis levitracialis natural alternative [url=http://cialisfor.com]generic cialis overnight delivery[/url] cialis effectiveness

Anonymous said...

http://antibioticswithoutadoctorsprescription.top/
[url=http://antibioticswithoutadoctorsprescription.top/]antibiotiс[/url]

Anonymous said...

[url=http://antibioticswithoutadoctorsprescription.top]antibiotics without a doctor's prescription[/url]
[url=http://viagrawithoutadoctorprescriptionusa.top]viagra without a doctor prescription usa[/url]
[url=http://clomiphenecitrateforsale.top]clomiphene citrate for sale[/url]


http://cialisfordailyuseprices.us
http://clomiphenecitrateforsale.top
http://cialiswithoutadoctor20mg.us

Anonymous said...

[url=http://viagraforwomenswheretobuy.top]viagra for women where to buy[/url]
[url=http://viagrawithoutadoctorprescriptionusa.top]viagra without a doctor prescription usa[/url]
[url=http://cialisfordailyuseprices.us]cialis for daily use prices[/url]


http://doyouneedaprescriptionforviagra.us
http://viagrawithoutadoctorprescriptionusa.top
http://bestdrugstorefoundation.top

Anonymous said...

[url=http://purchaseviagrafrompfizer.com]Purchase Viagra From Pfizer[/url]
[url=http://wheretobuyviagraonlines.com]Where To Buy Viagra Online[/url]
[url=http://buycheapcytotecinusa.com]Buy Cheap Cytotec In Usa[/url]


http://purchaseviagrafrompfizer.com
http://wheretobuyviagraonlines.com
http://buycheapcytotecinusa.com

Anonymous said...

Make sure you have enough with you when you travel.freely as desired N [url=http://bestmedrxedfor.com]tadalista vs cialis[/url] These antics alerted some traditionalists to the direction the upstart Vesalius was taking.It was possible for the client to open a hole for conducts that others could consider as fitting for the other gender and not to fight against them without this leading him to question his identity.K.Symptoms Symptoms of dermatitis herpetiformis tend to come and go.Course of Hepatitis B Course of Hepatitis C Acute infection subclinical in Acute infection subclinical in Resolution Chronic hepatitis Fulminant Chronic carrier Resolution Chronic hepatitis Fulminant Cirrhosis Develops in of Cirrhosis Develops in all patients with chronic hepatitis B Hepatocellular carcinoma of all patients with chronic hepatitis C Hepatocellular carcinoma Develops yrs after onset A Death transplant Develops yrs after onset B Death transplant [url=http://newpharmnorx.com]Cialis Online[/url] A..For example in the case of a lung scan the radiopharmaceutical is given intravenously for perfusion studies which rely on passage of the radioactive compound through the capillaries of the lungs or by inhalation of a gas or aerosol for ventilation studies which lls the air sacs alveoli.The ratio of acetylated histone normalized to total histone as well as the expression of the methylCpGbinding protein MBD were increased following uoxetine treatment To this end we investigated the Library of Pharmaco logically Active Compounds LOPAC SigmaAldrich for structural and pharmacophoric similarities to known HDAC inhibitors. [url=http://buyfurosemideus.com]buy furosemide online[/url] The epidemic from about CE to CE known as the Antonine Plague from the emperors full name Marcus Aurelius Antoninus has also been called the Plague of Galen.PR intervalthis should beFluids Electrolytes and Acid Base Disorders F l U I D S E l E C T r O ly T E S A N D A C I D B A S E D I S O r D E r S l b.hirsutismThese databases contain rafts of data on research trials diagnoses treatments and outcomes and they are constantly expanded and updated to provide the most uptodate information. [url=http://buyfinasteridecitrat.com]Buy Propecia Online[/url] Most people cannot resolve two points with an angular separation of less than radvague feeling of bodily discomfort [url=http://fast-tadalafil.com]buy cialis[/url] Arthritis Rheum.Presence of smudge cells fragile leukemic cells that are broken when placed on a glass slide d.Indeed by the time Pare attended the Hotel Dieu the reputation of barbersurgeons was growing.ss So many people die in such a short space of time across Europe that they c.

Anonymous said...

онлайн казино рулетка без регистрации [url=http://kamin-rostov.ru/images/article4202.html]Онлайн Покер На Реальные Деньги Играть[/url] казино игр статистика [url=http://kamin-rostov.ru/images/article1155.html]Покер Через Яндекс Деньги[/url] онлайн покер pokerstars [url=http://kamin-rostov.ru/images/article4103.html]Игровые Автоматы Онлайн На Рубли Гривны Онлайн[/url] игровые аппараты играть на деньги qiwi.

Anonymous said...

These drugs contain three fused rings tricyclic in their chemical structure.Even though I was wearing earplugs the sound was like the pounding of huge hammers held by giant arms or of heavyduty jackhammers. [url=http://drugsn.com]kamagra[/url] Sildenafil and vardenafil have very similar pharmacokinetic profiles with a time to achieve maximum serum levels Tmax of approximately hour and a serum halflife of approximately hours.One such technique for the detection of viruses and diagnosis of virus infec tions is shown schematically in Fig.Surely this cant be pneumonia.. [url=http://edfast-medrx.com]cialis[/url] Pressuresupport ventilation PSV a.th ed.But chloroform had dangeroussometimes fatalside effects so by the early th century it was replaced.e. [url=http://ziagen.net]effet du propecia[/url] Johnson Mind Wide Open.PubMed Haren M Chapman I Coates P Morley J Wittert G.Needle biopsy of right prostate gland six cores ADENOCARCINOMA MODERATELY TO POORLY DIFFERENTIATED Gleason score Estimated tumor load of prostatic tissue Represented in both specimens A and B B.Stent grafts also may be placed less invasively as an alternative to surgery in some patients. [url=http://cdeine.com]viagra[/url] The polycomb group protein EZH directly controls DNA methylation.The combining vowel is dropped before a sufx that begins with a vowel.Fluid and electrolyte problems see Chapter a.S. [url=http://rx-cs5.com]cialis online[/url] microscopic ber leading from the cell body that carries the nervous impulse along a nerve cell

Anonymous said...

Cialis Doses Buy Lasix Online No Rx Cialis Incompatibilidades [url=http://adrugo.com]cialis[/url] Il Viagra Serve Anche Alle Donne Cialis Comprare In Svizzera Lasix Without Prescription Buy Methotrexate Relent Kamagra Special Offer [url=http://edfastmedrxshop.com]generic viagra[/url] Buy Semisynthetic Tetracycline Cialis Info Cialis Nedeland [url=http://tadalafilfor.com]cialis online[/url] Buy Clomid Express Shipping Propecia Y Aminexil Cheapestvigorapills Viagra Blogs Best Online [url=http://shopbestmedrxed.com]cialis price[/url] Priligy 30 Mg Ohne Rezept Amoxil Forte Syrup Comprar Cialis Con Mastercard Viagra Cialis Sante Canada [url=http://bneatar.com]viagra cialis[/url] Cialis Viagra Preisvergleich Amoxicillin Suspension [url=http://albenxa.com]levitra for sale[/url] Cialis 20 Ou Acheter Clomid 120g Cialis Generique Montreal [url=http://gnplls.com]comprar levitra soft[/url] Amoxil Pediatrique Gouttes Acheter Cephalexin Lupin 500 Mg Zithromax Website Amoxicillin And Cipro And Drug Class Permanent Problems Of Propecia Propecia Eroski [url=http://buytadalafil20mgprice.com]cialis[/url] Where To Buy Mebendazole Vermox How Tadalis Sx Soft Works Baclofen Generique 10mg Pillole Levitra [url=http://enafil.com]finasteride[/url] Viagra For Sale No Prescription Baclofen Vente Sildenafil Tab 100mg Viagra Andorre Medical Propecia [url=http://dan5325.com]viagra[/url] Examples Of Side Effects Of Propecia Kmj Radio Ads Viagra Cialis Sevilla Cephalexin Side Effects Allergic To Amoxicillin [url=http://medhel.com]kamagra gold 100mg review[/url] Prix Cialis En Espagne Where Can I Get Cialis Cheaper Cialis 5mg Bestellen Cipro Or Amoxicillin Bladder Infection Buy Real Propecia [url=http://cthosts.net]cialis[/url] Generique Du Viagra Kamagra Kautabletten Erfahrungen Levitra Erfahrungsaustausch [url=http://rxmega.com]generic levitra 20mg[/url] Misoprostol Achat Ligne Viagra Per Rechnung Bestellen Amoxicillin For Fish Price

Anonymous said...

Cialis In Holland Cvs Viagra [url=http://buyoxys.com]levitra cheap[/url] Cialis Generique Arnaque Ampcillin From Canada Prices Pharmacies Offer Free Amoxicillin [url=http://apctr50.com]levitra without rx in the united states[/url] Skypharmacy Online Zithromax Ten Days Donde Comprar Cialis Soft Tadalis Sx Soft Feminin Pharmacia [url=http://byrxboxshop.com]viagra[/url] Levitra Medicament Belgique Buy Flagyl Online Without A Prescription Want To Buy Isotretinoin Wigan [url=http://dmdrugs.com]viagra[/url] Amoxicillin Powered By Phpbb Propecia Hair Fine Bentyl With Free Shipping Luton Food Interactions Amoxicillin [url=http://cpsmeds.com]buy cialis[/url] Can You Buy Diflucan At Walmart Cialis Tadalafil Erfahrungen Ou Acheter Du Cialis Moins Cher Online Medicans Interaction Between Amoxicillin And Alcohol [url=http://drugsor.com]viagra vs cialis vs levitra[/url] Cialis 10 Mg Effets Indesirables Lasix Sale Renovables A Propecia Cialis Mezza Pasticca Viagra Offerte [url=http://demalan.com]viagra[/url] Generic Cialis United States Finasteride 10mg Overseas Low Price Buy Vardenafil Uk Levitra Vorzeitiger Samenerguss [url=http://etrobax.com]cialis[/url] Ou Acheter Du Viagra Paris Kamagra Boite Cytotec En Gynecologie Prix Cialis Andorre [url=http://exdrugs.com]generic viagra[/url] Priligy Rite Aid Order Flagyl Express Kamagra Livraison Rapide Achat Canadian Farmacie [url=http://frensz.com]Cheap Viagra[/url] Acheter Priligy Dapoxetine Uk Finasteride Ricetta Propecia [url=http://e4drugs.com]kamagra chewable 100 mg canada[/url] Allergies Amoxicillin Dutasteride Dutasterida Legally Discount Cheapest Place To Buy Viagra Online Acheter Levitra Generique Ligne [url=http://corzide.com]viagra prescription[/url] Dosage Amoxicillin Kamagra Tabs Ha 45 Amoxicillin Capsule Discount Hydrochlorothiazide Find Medication Amex [url=http://feldene.net]viagra[/url] Donde Se Puede Comprar Viagra Prix Du Levitra Au Maroc Direct Worldwide Progesterone Best Website In Canada Cheapeast [url=http://fair-rx.com]kamagra price thailand[/url] Achat Tadalafil Canada Cephalexin Cross Reactant Citalopram Online Dutasteride Baldness Overnight Shipping [url=http://med84.com]viagra[/url] Amoxicillin Resistance Children Tonsillar