Thursday, December 8, 2011

मधुर आवाज़ के धनी -- श्री अशोक कुमार मोहिते

छत्री , शिवपुरी , मध्य प्रदेश.


सूफी संगीत सुनते हुए श्रोताओं की एक पंक्ति


गिटार पर अपने साथियों के साथ सूफी संगीत सुनाते हुए श्री मोहिते




२६ जून १९५४ को जन्मे श्री अशोक मोहिते जी पर माँ सरस्वती की विशेष कृपा है! सुरीले कंठ का धनी होने के साथ-साथ आपने लेखन द्वारा भी साहित्य को बहुत समृद्ध किया! जिला रत्नागिरी (महाराष्ट्र) के मूल निवासी श्रीअशोक जी इस समय श्रीमंत कै. जीजा महाराज छत्री ट्रस्ट, शिवपुरी , मध्य प्रदेश में छत्री अधिकारी हैं.


आपकी कुछ रचनाएँ --

रामजी की माया (भजन संग्रह)
एक रात तुम्हारे नाम लिखी (छायावादी रचना)
मेरी अंतिम कविता (मुक्त छंद कविता संग्रह)
सहज भाव (निबंध संग्रह )
व्यवस्था के लिए (व्यंग)
पूजा के व्यवहारिक अर्थ (अध्यात्म)
वैवाहिक जीवन का अध्यात्मिक आनंद

उपलब्धियां एवं पुरस्कार--

अनेक राष्ट्रीय एवं प्रादेशिक संगीत रचना पुरस्कार
महावृक्ष पुरस्कार १९९६
पर्यावरण व वन विभाग मंत्रालय भारत शासन नगरपालिका शिवपुरी द्वारा सन १९८५ में सम्मानित
शिवपुरी समारोह
तानसेन समारोह
भारत पर्व समारोह में गायन-वादन


श्री अशोक जी द्वारा लिखा गया एक अंतर गीत --

जो बीत गयो सो बीत गयो , अब आये वो सुख दुःख जीतो
जीत गयो सो जीत गयो , जो बीत गयो सो बीत गयो !

सत संगत अमृत घट भरियो , पीवत प्रेम जगत से करियो ,
जनम-जनम की प्यास बुझइयो, जो अंतर संगीत गयो
जो बीत गयो सो ------

अजब गजब है जगत की माया , बची न जग में नश्वर काया
आयु का घट निसदिन छलकत , रीत गयो सो रीत गयो
जो बीत गयो सो---

सुख जानो दुःख दूर भगाओ, अंतर भजन प्रभु का गाओ,
सबसे बड़ो रस भक्ति रस को , पीत गयो सो पीत गयो
जो बीत गयो सो-----

पहला सुख निरोगी काया , दूसरा सुख है घर में माया
तीसरा सुख सुलक्षण नारी , चौथा सुख सुत आज्ञाकारी

पांचवा सुख राज में वासा छठवां सुख है वास सुवासा
सातवां सुख त्वरित वाहन बल, आठवां सुख निकट निर्मल जल

नवां सुख संतोषी जीवन ,दसवां सुख है ज्ञान संजीवन
ग्यारहवां सुख भक्तिरस अंगा, बारहवां सुख आनंद अभंगा

पात परम सुख अमृत रस को पीत गयो सो पीत गयो
जो जीत गयो सो जीत गयो

"मोहित" राग भैरवी गावत,अपने आतम को समझावत
नाद ब्रम्ह को नाद सुनावत , काल अतीत पतीत गयो
जो बीत गयो सो -----

अशोक कुमार मोहिते

---------------------------------------------

31 comments:

सदा said...

नवां सुख संतोषी जीवन, दसवां सुख है ज्ञान संजीवन,

आपकी कलम से आदरणीय अशोक जी का परिचय पढ़कर अच्‍छा लगा, आभार ।

dheerendra said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति...बधाई
नई पोस्ट में स्वागत है

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति said...

बहुत सुन्दर - भक्ति से जुडी यह पोस्ट जिसमे अशोक मोहिते जी से हमें रूबरू करवाया अच्छी लगी... आपका आभार

संतोष कुमार said...

Sunder prastuti.
Ashok ji ke bare mein jaanna accha laga.

Aabhaar !

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

वाह! आभार

प्रवीण पाण्डेय said...

बहुत ही ज्ञानप्रद व अनुकरणीय बोल हैं, परिचय का आभार।

Deepak Shukla said...

Aapki kalam se shri Ashok ji ka geet padhkar aatnik shanti ka ahsaas hua hai...

Shubhkamnayen...

Deepak..

kshama said...

Bahut badhiya parichay karwaya aapne!

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

aisi shakhsiyat se milakat aaur itni sunder rachna se rubaru hone ka mauka mila..iske liye sadhuwad..sadar badhayee aaur amantran ke sath

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

aisi shakhsiyat se milakat aaur itni sunder rachna se rubaru hone ka mauka mila..iske liye sadhuwad..sadar badhayee aaur amantran ke sath

दिगम्बर नासवा said...

अशोक मोहिते जे के बारे में जानना अच्छा लगा ..

Atul Shrivastava said...

बढिया जानकारी।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

मोहिते जी के बारे मे पढ़ कर बहुत अच्छा लगा।

सादर

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

कल 08/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

कल 09/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

पिछले कमेन्ट मे गलत तारीख देने के लिए क्षमा चाहता हूँ।

ZEAL said...

Mahendr verma ji's comment--

------------------

Reply
mahendra verma to me
show details 5:29 PM (1 hour ago)

कमेंट बाक्स आज फिर काम नहीं कर रहा, इसलिए मेल से प्रेषित कर रहा हूं।
महेन्द्र

.............................................................
तबला, हारमोनियम, गिटार और भजन प्रस्तुत कर रहे श्री अशोक कुमार मोहिते
जी, आडियो न होने पर भी कानों में संगीत-स्वर गूंजने लगे।
संगीत आदमी को आदमी बने रहने में मदद करता है।
श्री हरि का कहना है- न तो मैं बैकुंठ में रहता हूं और न ही योगियों के
हृदय में। मैं तो वहां रहता हूं जां मेरे भक्त गायन-वादन करते हैं।

.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

मोहिते जी की विधा से परिचय कराने के लिए आभार!

Rakesh Kumar said...

अशोक कुमार मोहिते जी के बारें में आपने सुन्दर जानकारी कराई है.
उनके सद लेखन और अनुपम गायन को नमन.

मनोज कुमार said...

एक अच्छी शक्शियत से परिचय कराने का आभार। इनके बारे में जानकारी नहीं थी।

Er. Diwas Dinesh Gaur said...

श्री अशोक कुमार मोहिते जी से परिचय करवाने के लिए आपका आभार|
वैसे संगीत के शौक़ीन हम भी हैं| अत: कभी अवसर मिला तो उनकी महफ़िल में शरीक होकर उनकी मधुर आवाज़ का आनंद अवश्य लेंगे|

Bhushan said...

आपके माध्यम से अशोक जी के व्यक्तित्व से पहली बार परिचय हुआ.
आपका आभार डॉ. दिव्या.

रविकर said...

आज आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति चर्चा मंच पर है |

अरूण साथी said...

prerak aalekh..aabhar

Archana said...

अशोक जी के बारे में जानकर अच्छा लगा..

महेन्द्र मिश्र said...

Ashok ji or unaki rachana or gayan ke bare men badhiya janakari dene ke liye abhaar..

रजनी मल्होत्रा नैय्यर said...

divya ji ashok ji ke vyktitav se parichit aapke madhyam se hui .........aabhar aisi hasti se milvane k liye ,jinke kalam se athah ghan ka bhandar mila .......

Siddharth Mohite said...

its most awaited & well deserved information about our beloved kaka/aajoba.....wish u a great success.

Regards

Mohite's Indore......

Anonymous said...

Ger8t! Voice,Good Writer! Well Fame

Best Wishes
Praveen Jagtap
Vayuputra Layouts

Anonymous said...

Ger8t! Voice,Good Writer! Well Fame

Best Wishes
Praveen Jagtap
Vayuputra Layouts

PJ said...

Gre8T!Voice,Good Writer!Wel Known

Best Wishes
Praveen Jagtap
Bhopal

PJ said...

Gre8t! Voice!Good Writer,Nice Man

well Known!

Best Wishes
Praveen Jagtap
Bhopal