Monday, December 10, 2012

मर्द या फिर हत्यारे ?


धर्म के नाम पर मर्दानगी दिखाते मर्द या फिर हत्यारे ?

अहिंसा परमो धर्मः 

Zeal

8 comments:

पूरण खंडेलवाल said...

बेजुबान जानवरों पर कहर बरपाने वालों को हत्यारा कहना भी कम ही होगा ये तो रक्तपिपासु हैं !!

दीर्घतमा said...

ये मर्द नहीं मुसलमान है ------!

अरुन शर्मा "अनंत" said...

ऊफ इन्हें इंसानो का नहीं हैवानो का दर्जा देना चाहिए
अरुन शर्मा
RECENT POST शीत डाले ठंडी बोरियाँ

गोविन्द नारायण श्रीवास्तव said...

ये पिशाच हैं जो इस्लाम को मानते हैं।

madhu singh said...

bahut hi dard bhara drishy,havaniyat ki had

Akash Mishra said...

मैं खुद शुद्ध शाकाहारी हूँ , और आपके इस विरोध को पूरा समर्थन देता हूँ लेकिन (बिना किसी अग्रिम विवाद को बढ़ावा दिए) मैं ऊपर की हुई कुछ टिप्पड़ियों की भी निंदा करता हूँ |
मैं हिन्दुस्तान को मानता हूँ , हिंदुत्व को मानता हूँ लेकिन तथाकथित हिंदू को नहीं |

सादर

Suresh kumar said...

he bhagwaan asa bhi hota hai kya ....uf......

Suresh kumar said...

he bhagwaan asa bhi hota hai kya ....uf......