Wednesday, July 3, 2013

आजकल लापता हैं ये लोग ..


12 comments:

दीर्घतमा said...

आपने किसका नाम लिखा ये तो सभी पाकिस्तानी और भारत बिरोधी है इनसे भारत के बिपत्ति में सहयोग की अपेक्षा करना हमारी नादानी है-----!

दिलबाग विर्क said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 04/07/2013 के चर्चा मंच पर है
कृपया पधारें
धन्यवाद

priya said...

very good question at very appropriate time!

This country appears to be going back in the colonial rule enhancing era. every body is busy exploiting the motherland. hope our greed about modernity ends which only will lead to cessation of appeasement because then only we will not care about international sanctions.

Ramakant Singh said...

क्या लाजवाब बात कही

प्रतिभा सक्सेना said...

समय पर असलियत सामने आ जाती है!

पूरण खण्डेलवाल said...

ये सब सेक्युलर है ..............

kunwarji's said...

राहत सामग्री ये पहुंचा देंगे... कोई अभियान भी ये चला सकते है बशर्ते कुछ पारितोषिक इन्हें मिलना चाहिए!बिना पैसे के तो ये कुछ नहीं कर पायेंगे न....

कुँवर जी,

Maheshwari kaneri said...

क्या बात कह दी आप ने..

ichat said...

Pseudo-secular शायद इसी को कहते हैं ।

Alok Srivastava said...

They are nothing but attention seekers

Alok Srivastava said...

They are nothing but the attention seekers

rohitash kumar said...

कमाल है ..... कैसे आप शाहरुख खान को लापता कह सकती हैं..चेन्नई एक्सप्रेस फिल्म का प्रमोशन कर रही हैं......बाकी सब भी फिल्मी हैं..तो डायलाग हो या काम फिल्मी ही करेंगे ना.....ऐसे लोगो को इस समय खोजना भारी मुर्खता नहीं तो क्या है.....हकीकत की जमीन पर नौटंकी वालो का काम नहीं था..सेना का काम था..वालिंटयर का काम था..औऱ दोनो ही लोगो वहां मौजूद हैं।