Sunday, July 11, 2010

ग्यारह जुलाई - जनसँख्या दिवस !

आज जनसँख्या दिवस है !

विश्व जनसँख्या- ५.९ बिलियन !
भारत की जनसँख्या- १.१५ बिलियन !

आज चीन की जनसँख्या सबसे ज्यादा है , लेकिन २०३० तक भारत की जनसँख्या सबसे ज्यादा हो जाएगी.

विश्व की बढती जनसँख्या हमारे लिए अभिशाप साबित हो रही है ! जनसँख्या के अनुपात में हमारे पास तेल , खाद्य सामग्री और संसाधन कम होते जा रहे हैं ! ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है , मछलियाँ नष्ट हो रही हैं ! ईको सिस्टम डिस्टर्ब हो रहा है ! जंगल कट रहे हैं ! कार्बन डाई आक्साइड बढ़ रही है ! जरूरत है हमे इस समस्या पर ध्यान देने की ! हमारे पाठक तो जागरूक हैं , लेकिन वो आस पास के गाँव तथा काम करने वालों को जागरूक कर सकते हैं। !

एक माँ कितने बच्चों का भार वहन कर सकेगी? जरूरत है धरती माँ के ऊपर अत्यधिक भार न डाला जाये ! हमे अपनी आने वाली संतति के लिए विरासत में कुछ तो संसाधन छोड़ के जाना चाहिए !

समय रहते सचेत होने की आवश्यकता है !

१-बच्चे दो ही अच्छे !
२-छोटा परिवार, सुखी परिवार !
३-हम दो हमारे दो - एक हो तो और भी अच्छा !

सुखी और खुशहाल रहने के लिए बढती आबादी पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

46 comments:

ethereal_infinia said...

Dearest ZEAL:

Wish you a very happy birthday and a most fulfilling year ahead.

Extremely sad that you have given in to the demands of the Hounds to write in Hindi. Extremely disappointing.

The Hounds will rejoice today and congratulate each other that they FORCED you to do their bidding and write in Hindi.

This is the manner of hunting of the Hounds. They constantly stalk the prey and make it go weak with desperation to eventually succumb to their vile wishes.

Anyways, it is your blog. Enjoy.


Arth kaa
Natmastak charansparsh

Mahak said...

@Divya ji

I didn't know it is your birthday today. I get it after reading Arth's comments. I amazed how he knows it because it is not mentioned in your blog profile. Anyways

I wish you a very-2 happy & prosperius birthday and may GOD fullfill all of your wishes & dreams of your life.

In this post too you raised your concerns on a serious issue that is Over-Population. I think we need to make a tough law like China which grants the permission of only 2 children and strictly punish those who break it.If China can aware about it now & taking steps to tackle it then why can't we . Also we have to spread education or we can say awareness about it more & more mostly in rural areas.

Again best wishes from my side & many-2 happy returns of the day.

GOD Bless You

Mahak

Arvind Mishra said...

सुखद संयोग -आज के ही दिन आप भी धरा पर आयीं -पहले बधाई फिर ढेर सारी शुभकामनाएं स्वीकार करें ...
आपका हिन्दी में लिखा यह आलेख स्वागत योग्य है ,जन्मदिन पर आपका जननी प्रेम महज संयोग नहीं आपका जननी के प्रति कृतज्ञता का ज्ञापन भी है -हम अपनी जननी के उपकारों से भला कब उऋण हो सके हैं ..आपका यह मातृ समर्पण अनुकरणीय है .
वे जो अपनी माता ,अपनी बोली और अपने समाजं के प्रति कृतज्ञ नहीं हैं वे धरा पर बोझ हैं पशु सा विचरण कर रहे हैं !
आप अपने मन की आवाज सुनिए ....

डॉ टी एस दराल said...

दिव्या जी , जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ।

विश्व जनसँख्या दिवस पर सब के लिए सोचनीय और विचारणीय विषय है ।
हम सब जानते हैं , बढती जनसँख्या का प्रभाव कितना ख़राब हो सकता है।
लेकिन जिन पर इसका असर होना चाहिए , अफ़सोस कि वो लोग इस लेख को नहीं पढ़ सकते । आज ही अखबार में पढ़ा कि कैसे बिल गेट्स ने बिहार का दौरा किया और वहां के गावों की हालत देखी तो पाया कि एक परिवार में औसतन ६-७ बच्चे थे । वहां कोंट्रासेप्शन के बारे में कोई नहीं जानता । बच्चों को अभी भी भगवान की देन मानते हैं । कौन समझाएगा उनको ये बात । क्या कोई प्रयास कर रहा है । शायद नहीं ।

इस विषय पर नुक्कड़ ब्लॉग पर मैंने आज ही एक हास्य व्यंग कविता लिखी है । कृपया पढियेगा ज़रूर ।

शिवम् मिश्रा said...

दिव्या जी , जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ।

प्रवीण पाण्डेय said...

आपको जन्मदिन की बधाईयाँ । हम बाकी क्षेत्रों में भी 20 प्रतिशत योगदान दें. यही हमारा प्रयास रहना चाहिये ।

सम्वेदना के स्वर said...

और इक साल गया, जाने दो,
उम्र कुछ और बढी, जाने दो,
तुम सदा यूँ ही मुस्कुराती रहो
कल की दुश्वारियों को, जाने दो.
सालगिरह मुबारक़, दिव्या जी...

सुधीर said...

जन्मदिन कि बधाई। जनसंख्या का सवाल है तो सत्तर के दशक से इसके लिए प्रयास हो रहे हैं। वृद्धिदर में कमी तो आई है मगर २०३१ से पहले यह बढ़ोतरी ठहरने वाली नहीं दिख रही। ऐसा आंकड़ों का रुझान है। जागने में देर हुई है, अब समय तो लगेगा ही। अब लोग दूसरा बच्चा पैदा करने में भी झिझकते हैं, यह रुझान अच्छा बन रहा है।

संजय कुमार चौरसिया said...

janmdin ki bahut bahut badhai evam shubh-kaamnayen

http://sanjaykuamr.blogspot.com/

VICHAAR SHOONYA said...

दिव्या जी सबसे पहले तो बधाई इस बात की दूंगा की पूरा लेख हिंदी में ही है. अरे यार लोगों की अंग्रेजी बोलकर जबान टेड़ी होती है और मेरी अंग्रेजी लिख कर अंगुलिय टेड़ी हो रही थी और वैसे भी इस भाषा में हाथ तंग हैं. कई बार तो सिर्फ इसलिए कमेन्ट नहीं किये कि हिंदी में लिखू या अंग्रेजी में. तो पहली बधाई हिंदी में लिखने की और दूसरी बधाई हम जैसो को ये याद दिलाने की कि आज जनसँख्या दिवस है. अब दो बधाईया दे दी हैं तो जन्मदिन कि तीसरी बधाई भी ले ही लो. वैसे पता नहीं कि आपका जन्मदिन १० को था या आज ११ को है पर फिर भी बुढ़ापे कि तरफ एक और कदम बढ़ने के लिए आपको बधाई........

शिवम् मिश्रा said...

वैसे आज तो आपने उल्टा हम लोगो को गिफ्ट दे दिया ..................बेहद मांग पर आपने आज हिंदी में अपना पूरा लेख जो लिखा है !
बहुत बहुत धन्यवाद !

राजकुमार सोनी said...

आपको जन्मदिन की शुभकामनाएं
बहुत-बहुत बधाई.

लेकिन जरा ठहरिए तो सही..

अभी मैं और बधाई दूंगा

राजकुमार सोनी said...

जन्मदिन मुबारक हो.

राजकुमार सोनी said...

ईश्वर करें आप हमेशा खुश रहे.

राजकुमार सोनी said...

ईश्वर आपकी हर मनोकामना पूर्ण करें

राजकुमार सोनी said...

एक बार फिर से बधाई

राजेश उत्‍साही said...

जब सब कह रहे हैं और राजकुमार जी इतनी बार तो कोई शंका ही नहीं रह जाती कि दिव्‍य ज्‍योति आज ही की दिन अवतरित हुई थी। तो हमारी तरफ से और अपनी नीमू भाभी की तरफ से भी बहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुतबहुत सारी बधाई स्‍वीकारें। शुभकामनाएं,खुश रहो। लिखती रहो,तुम्‍हारी लेखनी में और ओज आए। और और तुम्‍हारा यह ब्‍लाग फूले,फले,टिप्‍पणियों नहाओ।

डा० अमर कुमार said...
This comment has been removed by the author.
डा. अरुणा कपूर. said...

हमारा भारत बढती हुई जनसंख्या की वजह से ही तरक्की नहीं कर रहा!... वैसे यहां प्रतिभाओं की कमी नहीं है..लेकिन ओपर्चुनिटीज के अभाव में प्रतिभाओं का योग्य इस्तेमाल नहीं हो रहा!...जनसंख्या की अति ही बहुतसी समस्याओं के लिए जिम्मेदार है!...इसके लिए जागरुकता आवश्यक है!... बहुत सुंदर आलेख है दिव्या!...धन्यवाद!...जन्मदिन मुबारक हो!

RAJNISH PARIHAR said...

दिव्या जी , जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ।

अजय कुमार said...

जन्मदिन मुबारक हो ,और हां हम दो और हमारा एक ही है ।

दिगम्बर नासवा said...

दिव्या जी .... जन्मदिन की हार्दिक बधाई ...

विश्व जनसांक्या दिवस पर विचारणीय पोस्ट है .... इसके लिए अभी से कदम उठना होगा तभी जाके आने वाले २०-३० सालों में कुछ परिवर्तन नज़र आएगा .... वैसे आस्ट्रलिया के एक वैज्ञानिक ने भविष्यवाणी की है की आने वाले १०० सालों में मानव सभ्यता ख़त्म हो जाएगी .... इस जनसंख्या विस्फोट के चलते ....

Avinash Chandra said...

Very true Divya ji.
Absolutely.

And yes, A very very happy birthday if it is your birthday today.
Otherwise too...have a very very good day :)

Gourav Agrawal said...

दिव्या जी
बहुत अच्छा और सामयिक लेख है और हिंदी में लेखन के लिए बधाई

जहां तक इस विषय की बात है हर मानव एक पेट के साथ दो हाथ और एक दिमाग भी साथ में लेकर पैदा होता है , फिर भी ये समस्या क्यों पैदा हो रही है ??? शायद इसीलिए क्योंकि कोई भी संसाधन (जैसे यहाँ मानव संसाधन) अन्य मौजूदा संसाधनों के अनुपात में जरूरत से ज्यादा बढ़ जाए और साथ में उस बढे संसाधन का सदुपयोग करने की रचनात्मक क्षमता भी कम या बाधित होती जाए तो क्या कहा जाए ??

Gourav Agrawal said...

वैसे एक उपाय किया जा सकता है ........ घर में आई हर संतान के साथ एक पेड़ या दो पेड़ ( कम से कम ) लगायें जाए तो कैसा रहे ???

Gourav Agrawal said...

दिव्या जी,

आपको जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मैं इश्वर से प्रार्थना करता हूँ की आपके जीवन में ये छह शस्त्र(गुण) 1.उद्यम
2.साहस
3.धैर्य
4.बुद्धि
5.शक्ति और
6.पराक्रम

हमेशा साथ रहें ताकि जरूरत पड़ने पर देव भी आपकी सहायता करने आ जाएँ

उद्यमः साहसं धैर्यं बुद्धिः शक्तिः पराक्रमः ।
षडेते यत्र वर्तन्ते तत्र दैवं सहायकृत् ॥

दीपक 'मशाल' said...

Many happy returns of the day ma'am
n thanks for such an ideal post..

ashish said...

जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाये.. विचारणीय आलेख, जनसँख्या वृद्धि का भूत दिन पर दिन विकराल होता जा रहा है. ११४ करोड़ हो हो गए हम.. इस का निदान केवल जनमानस को इसके खतरों से आगाह करके ही हो सकता है. अभी भी ग्रामीण क्षेत्रो में परिवार नियोजन की विधियों पर तमाम भ्रान्तिया पाई जाती है., जो उचित शिक्षा देकर दूर की जा सकती है.

Pankaj Upadhyay (पंकज उपाध्याय) said...

Happy B'day Divya Ji..

हमारी बढती जनसँख्या ही शायद हमारे विकास के बीच मे सबसे बडा रोडा है... संसाधन कम है और भोगने वाले लोग बहुत ज्यादा...

थोडा रीयलिस्टिक होकर सोचू तो ’हम दो हमारे दो’ का फ़ार्मूला भी जनसँख्या को दोगुना ही करेगा... और कोई सालूशन्स?? शायद नही..

क्या हम ऎसा नही कर सकते कि इसे अपने ताकत बनाये.. मैनपावर.. हम मैनपावर एक्स्पोर्ट करे... जिन देशो को काम काज करने के लिये लोगो की जरूरत है वो हमारे देश से रिक्वेस्ट करे और हमारी सरकार ओफ़िशियली मैनपावर भेजे(आउट्सोर्स करे) न कि वो पर्सनली अरब देशो मे जाकर रोजगार ढूढे और अपनी ज़िन्दगी को दाव पर लगाये..

अपनी मैनपावर को हम सक्षम बनाये... उनसे बन्जर जमीनो से भी सोना उगवाये.. उनके दिमागो से बडे से बडे दिमागो को जीते... उनकी सोचो को विकसित करे...

शायद तभी कुछ होगा!! :(

बेचैन आत्मा said...

एक कवी महोदय के पांच हो गए ..छठे की तैयारी में लगे हैं टोकता हूँ तो कविता सुनाने लगते हैं ...

लक्ष्य तो दृढ थे मेरे प्रारंभ से ही
किन्तु हर घटना अचानक घाट गई ..!

अधिक टोकता हूँ तो गरियाने लगते हैं...

तुमसे खाने के लिए पैसा मांगता हूँ क्या ?
सोचता हूँ की जब एक कवि {सुधारक] को नहीं सूधार पाया तो आम जन क्या मेरी बात सुनेंगे..!
..आपकी अपील सार्थक व उपयोगी है.

बेचैन आत्मा said...

दिव्या जी , जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ।

Divya said...

I am very happy today to receive so many birthday wishes from my readers.

Birthday wishes given in different beautiful ways by everyone is so appealing and mesmerizing.

Once again many thanks to all of you.

Divya said...

@-लक्ष्य तो दृढ थे मेरे प्रारंभ से ही
किन्तु हर घटना अचानक घट गई ..!

Devendra ji, majedaar kissa...fir bhi prayaas jari rakhiye. ho sakta hai, 6th ke baad wo fullstop laga dein.

Divya said...

@-अपनी मैनपावर को हम सक्षम बनाये... उनसे बन्जर जमीनो से भी सोना उगवाये.. उनके दिमागो से बडे से बडे दिमागो को जीते... उनकी सोचो को विकसित करे...

bahut sarthak soch.

Divya said...

1.उद्यम
2.साहस
3.धैर्य
4.बुद्धि
5.शक्ति और
6.पराक्रम

Gaurav ji,

Mujhe inn sabhi ki behad zaroorat hai. Many thanks.

Divya said...

Rajkumar soni ji, Rajesh ji avam sabhi ki masti bhari badhaiyon ka aabhar.

Divya said...

Dr Amar ,

'Gur ke gulgue' yaad dila diye aapne ! ab meri mother jeevit nahi...kaun khilayega ?

nostalgic to bahut hun aaj !

Dr. Aruna,

Thanks.

Avinash Chandra said...

Divya Di,

So confirmed haan!

Lemme Wish you a great and prosperous year ahead, once again.

May you achieve whatever you desire.. may the sun burn all your malaise.

Stay cheerful and stay blessed..

Happy Birth Day again

rashmi ravija said...

जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई दिव्या... नई ऊँचाइयों तक पहुँचो.....मन की सारी मनोकामना पूरी हो....और बहुत खुश रहो :)

बहुत ही सुन्दर आलेख है....जनसँख्या ही सारी समस्याओं की जड़ है...और तुम्हारा आह्वान अच्छा है...नीचे तबकों में ..गाँवों में लोगों में जागरूकता लाने की जरूरत है..

वाणी गीत said...

एक और बार जन्मदिन की शुभकामनायें ...

मुझे ऐसा क्यों लगता है की जो दिव्या सिर्फ कमेन्ट करती थीं और जो दिव्या पोस्ट लिखती है , और जिस दिव्या ने मेरी मेल का जवाब दिया इनमे बहुत अंतर है ...:):)

Anyways ...Nice Post !

Divya said...

Avinash ji, Rashmi ji, Vani ji,

Thanks for the wishes.


@- Vani ji-

Samay ke saath teji se chalne ki koshish kar rahi hun, nahi to peeche reh jaungi....Jo saath chal sakenge wahi mere sachhe mitra honge.

Thanks .

Virendra Singh Chauhan said...

No doubt..You're right.

We need to control our population.But it should be done by each and every community.

Saumya said...

belated happy birthday :)....thank you for the thought provoking post.

Divya said...

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI - Wish you Many Mnay happy returns of the day. All your dreams and Wishes come true. GOD Bless you. Have a great Birthday.जमकर जियें खुशियों के दिन, यही हमारी भावनाएं, इसी दिन से समृद्ध होंगी, भविष्य की संभावनाएं, आज के दिन हो इकठ्ठा खूबसूरत कल्पनाएँ, आपके जन्मदिन की आपको ढेर सी शुभकामनायें

Divya said...

Diwakar Mani ji ki sanskrit mein ki gai tippani-

Diwakar Mani दिवाकर मणि said - जन्मदिवसस्य कोटि-कोटि हार्दिकी शुभकामना प्रेषयामि (क्षम्यताम्‌ विलम्बकृते).

Anonymous said...

Diabetes can cause erectile dysfunction has been shown that between 30 and 50% of
poorly controlled diabetic patients are affected by erection problems.

It is determined that approximately 30,000,000 men around the world have erectile dysfunction.
Erectile dysfunction, also called impotence is a common condition
that affects most men at some point in their life.


my web blog naudingas šaltinis