Friday, August 17, 2012

इस देश में सुरक्षित कौन ?

हमारे देश में कोई भी सुरक्षित नहीं है। चाहे वो देश के किसी भी हिस्से में रहे। उत्तर भारतीयों को ठाकरे , ठिकाने लगा देंगे तो बैंगलोर में आसामी सुरक्षित नहीं हैं। मथुरा कोकराझार में हिन्दुओं की लाशें बिछ गयीं लेकिन प्रशासन मजे में है। बंगलादेशी घुसे चले आ रहे हैं, किसी को कोई मतलब ही नहीं है। देश खंडित हो रहा हैं , लेकिन देशद्रोही ही राज कर रहे हैं। मीडिया बिक चुकी है, बस TRP के बारे में ही सोचती है! आतंकवादी बिरयानी खाते हैं। देश के अन्नदाता किसान , आत्महत्या करते हैं। संगदिल , निष्ठुर , क्रूर सरकार केवल अपनी सुरक्षा की ही व्यवस्था करती है बस। बाकी कोई मरे या जिए।

Zeal

18 comments:

expression said...

सचमुच दुखद है और चिन्तनीय भी....
अनु

कविता रावत said...

सच हालातों को देख तो यही लगता है कि देश को चलाने वाले शासक, प्रशासक ही सिर्फ अपनी सुरक्षा को देखकर निश्चिन्त है..जनता की जनता जाने .....
सार्थक चिंतन प्रस्तुति के लिए आभार

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

wakai me bahut gambheer chita ka sabab hai ye...aaj aapke bichaaron se kafi mail khati appne college jeewan ke ek post publish kee hai..us rachna par aap apne bichaar dene ka kast karein

पूरण खंडेलवाल said...

कोई सुरक्षित नहीं है !!

राजेश सिंह said...

दुखद पर सत्य

Bikramjit said...

yet we say MERA BHARAT MAHAAN ..

and celebrate independance day.. WHY..

SHAMe on us all

Bikram's

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति!
इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (18-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

Maheshwari kaneri said...

सच में देश की स्थिति बहुत ही चिन्ताजनक है..

दिवस said...

पहले कश्मीर में हिन्दुओं को मारा, पूरे देश में फिर भी नहीं चढ़ा हिन्दुओं का पारा|
फिर कोशिकला में बर्बरता दिखाई,किन्तु किसी को नहीं दिखाई दी मुल्लों की डिठाई
असम को भी दूसरा कश्मीर बना डाला| फिर भी हिन्दुओं की व्यथा कोई नहीं सुनने वाला|
मुंबई में जमकर पत्रकारों को हडकाया फिर भी नीच मीडिया ने हिन्दुओं को ही तडपाया|
राजस्थान ही था अब तक इन मुल्लों की बर्बरता से अछूता, किन्तु आज सिरोही में इन जालिमो...
ं ने हिन्दुओं को जमकर सूंता|

अल्लाह के इन नेक बन्दों ने भारत में अपना जिहाद शुरू कर दिया है| असम के पीड़ित बहन-भाई पुणे, हैदराबाद, बैंगलोर में भी इनका फतवा झेल रहे हैं| ५००० पीड़ितों ने बैंगलोर छोड़ दिया है| हैदराबाद और मुंबई में पाकिस्तान की स्वाधीनता का जश्न मनाया जा रहा है| फिर भी आज सेक्युलर हिन्दू गुजरात दंगों पर छाती पीटता है|

सुशील said...

नेता और उनके चमचे
सुरक्षित हैं बस इस देश में
जनता मरेगी जहाँ भी मरेगी
स्त्री करते रहेंगे ये अपने वेश में !!

Virendra Kumar Sharma said...

नोट कर लो भैया अगले साल मौन सिंह लाल किले पे नहीं चढ़ेंगे यह भविष्य कथन नहीं है ,अब इससे आगे और क्या होगा .....मेरे से हाथ मिलाने से किसी के हाथ काले हो जाएँ तो मैं क्या कर सकता हूँ .लाचार हूँ ,नियुक्त प्रधान मंत्री हूँ ...
कृपया यहाँ भी पधारें -
ram ram bhai
शुक्रवार, 17 अगस्त 2012
गर्भावस्था में काइरोप्रेक्टिक चेक अप क्यों

Virendra Kumar Sharma said...

प्रधान मंत्री के बंगले में रह रहा पूडल सुरक्षित है ...
कृपया यहाँ भी पधारें -
ram ram bhai
शुक्रवार, 17 अगस्त 2012
गर्भावस्था में काइरोप्रेक्टिक चेक अप क्यों

ZEAL said...

भारत देश के अधिकाँश हिस्सों में तानाशाही हो रही है। ममता बनर्जी तो तेज़ी से धर-पकड़ करके जेल में डाल रही हैं। यदि इसी तरह चलता रहा तो लोकतंत्र पूरी तरह समाप्त हो जाएगा। ज्यादातर राज्यों में तानाशाही है। कहीं मिलिट्री-शासन की नौबत न आ जाये। भ्रष्ट मंत्रियों को फेसबुक से भी बहुत तकलीफ हो रही है। आम इंसान से उसकी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता भी छीनी जा रही है। हमारे मौलिक अधिकार छीनकर १९७५ वाला आपातकाल न लगा दें कहीं।

Satish Chandra Satyarthi said...

क्या कहा जाए...

Prabodh Kumar Govil said...

aapki chinta nishchit hi ek jayaz aur gambheer chinta hai, kabhi-kabhi lagta hai ki kya ham logon ki koi aur bhi aisi bhumika ho sakti hai, jismen ham vartmaan se kuchh zyada kar saken?sochiye, mujhe lagta hai ki yah sambhav hai.

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

देश के हालात ठीक नहीं है, देश में सरकार नाम की चीज नहीं है, ये सारी बातें सही हैं..

पर सिस्टम को कोसना आसान है, एक रास्ता सुझाना शायद मुश्किल ..

ZEAL said...

.

महेंद्र जी , रास्ता बहुत सीधा और आसान है। "कांग्रेस हटाओ , देश बचाओ"

.

ZEAL said...

जब आतंकवाद फैलाने वाले पाकिस्तानियों और बांग्लादेशियों को घुसपैठ की इज़ाज़त देकर अन्दर बैठा लिया है तो फिर ये कहने से क्या फायदा की अफवाह पाकिस्तान फैला रहा है।