Monday, April 18, 2011

थाईलैंड की होली (सोंगक्रान)-songkran

थाई होली (songkran) खेलते हुए यहाँ के निवासी








cruise में खड़े मास्टर सुयश



"View point" नामक खूबसूरत स्थल , जहाँ से कोचांग के चारों island देखे जा सकते हैं।









समुद्र किनारे , तन्हा-तन्हा। ( मेरा प्रिय शगल)





resort का एक दृश्य । जिस पुल से गुज़र कर Restaurant तक पहुँचते हैं।


समुद्र में snorkeling करते हुए सेनानी ।


snorkel पहने हुए । आँख तथा नाक पूर्णतया सील हो जाती है । पानी अन्दर नहीं जा सकता। होकी जैसा pipe मुह के अन्दर रखते हैं तथा मुख से ही सांस लेते हैं । इसे पहनकर आराम से पानी के अन्दर जा सकते हैं । पानी में बहुत सुन्दर दृश्य दिखे जैसा हम टीवी पर देखते हैं।


वाटर फौल -- दो शिला खण्डों के मध्य जो सफ़ेद रेखा दिख रही है । इसे देखने लोग दूर-दूर से आते हैं। यहाँ सेनानियों ने जमकर Swimming की। मैं आलसी की तरह बैठी हूँ।





होली खेलते थाईलैंड निवासी , यहाँ "pick up" नामक ट्राली टाइप गाडी में सवार होकर , टबों में पानी रखकर होली खेलते हैं। पानी में बरफ होता है। तथा खुशबूदार भी होता है। यदि आप सड़क पर हैं तो आपको तर-बतर कर देंगे। यदि कार में हैं तो आपकी कार पर बहुत सा पानी डालेंगे। नाचते-गाते मस्ती करते हुए songkran (होली) मनाते हुए।
-----------------------


सवादी-खा (नमस्ते)

थाईलैंड में भी भारत की तरह होली होती है जिसे सोंगक्रान (songkran) के नाम से जानते हैं। यह शब्द संस्कृत के 'संक्रांति' से आया है। जिसका अर्थ है 'गति' अथवा 'बदलाव' । इस समय सूर्य अपनी गति के कारण मेष राशि में प्रवेश करता है। सोंग्क्रान १३, १४, १५ अप्रैल को मनाते हैं लेकिन उत्तर थाईलैंड में यह त्यौहार एक सप्ताह तक मनाया जाता है। यह त्यौहार यहाँ पर भारत से ही प्रचलन में आया है।

भारत के वैशाख पर्व की तरह यहाँ भी 'नए वर्ष' को मनाते हैं। इस अवसर पर बड़ों को , पड़ोसियों को , मित्रों को , तथा बौद्ध भिक्षुओं को आदर सम्मान देते हैं। अच्छी फसल और वर्षा के लिए प्रार्थना करते हैं तथा घरों की सफाई करते हैं। सड़क पर hose pipe तथा पिचकारियों से बरफ के ठन्डे पानी की होली खेलते हैं ।

इस अवसर पर थाईलैंड में , देश-विदेश से बहुत बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं। हम लोगों ने 'सोंगक्रान' , थाईलैंड के , 'Koh-Chang' नामक एक खूबसूरत Island पर मनाया। जो Bangkok से तकरीबन १००० km दूर है। यादगार के लिए कुछ तसवीरें संलग्न है।

ज़िन्दगी में पहली बार समुद्र की गहराइयों में पहुंचकर गोताखोरी , snorkeling का आनंद लिया। अद्भुत दृश्य थे। स्वर्गिक अनुभव।

खपून खा (आभार)......

.

78 comments:

: केवल राम : said...

थाईलैंड वासियों को होली की हार्दिक शुभकामनायें ...खुबसूरत चित्रों के साथ जानकारी देने के लिए आपका आभार

Rakesh Kumar said...

आपके 'Koh-Chang' Island पर 'सोंगक्रान' मानाने के लिए बहुत बहुत बधाई.
मै तो खैर मना रहा था कि दिव्याजी को क्या हुआ.
आप मेरे ब्लॉग पर नहीं आयीं इसके लिए बहुत बड़ी शिकायत है.
आप सोंगक्रान मनाने तो १४ अप्रैल में ही गई न ,जबकि मेरी रामजन्म की पोस्ट १३ अप्रैल में जारी हो गई.ये तो बहुत बड़ी नाइंसाफी है.क्या वास्तव में मुझ से कोई भूल हुई ?

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

सोंगक्रान/संक्रांति/वैसाखी की बधाई!

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह उत्सव से चित्र।

udaya veer singh said...

manohari chiton , vishay -vastu se parichit hokar
achha laga , sadhuvad .

खुशदीप सहगल said...

सोंगक्रान जैसे खूबसूरत त्योहार के बारे में जानकारी देने के लिए आपका खपून खा...

जय हिंद...

अरुण चन्द्र रॉय said...

थाईलैंड वासियों को होली की हार्दिक शुभकामनायें ...खुबसूरत चित्रों के साथ जानकारी देने के लिए आपका आभार

ethereal_infinia said...

Dearest ZEAL:

A very nice presentation.

Thank you for the feel of the Thai Holi.

And yes, a zillion thanks for the best in all images - That being the UNPARALLELED YOU.


Semper Fidelis
Arth Desai

सतीश सक्सेना said...

नयी जानकारी और पारिवारिक चित्र बहुत अच्छे लगे ! शुभकामनायें दिव्या !!

सुशील बाकलीवाल said...

सांगक्रान की हार्दिक शुभकामनाएँ...

V!Vs said...

:)

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

खूबसूरत चित्रों के साथ अच्छी जानकारी ... होली (सोंगक्रान)कि बधाई और शुभकामनायें

प्रतुल वशिष्ठ said...

.

सवादी-खा. स्मृति में संजोने को कुछ और फोटो मिल गये. खपून-खा.


समीर जी क्या फोटो ही खींचते रहे?

.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

bahut majedaar hota hai ye..

Kunwar Kusumesh said...

थाईलैंड के इस पर्व की जानकारी पहली बार मिली. सांगक्रान/होली पर्व की बधाई.

निर्मला कपिला said...

बहुत अच्छी जानकारी दी। धन्यवाद।

वन्दना said...

आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है.........http://tetalaa.blogspot.com/

Shah Nawaz said...

बहुत बढ़िया जानकारी दी... मैं खुद भी मना चूका हूँ बैंकॉक में सोंगक्रान नामक यह होली... अच्छी बात यह थी कि कोट-पैंट पहने मेहमानों पर यह लोग पानी नहीं डालते हैं... और रंग की जगह पानी में पावडर मिला कर डाला जा रहा था...

उन दिनों व्यापारिक मीटिंग्स के लिए अक्सर थाईलैंड जाना होता था, तब भी एक मीटिंग के लिए बैंकॉक गया था, जब एअरपोर्ट से होटल गया तो किसी ने कुछ नहीं कहा... मुझे लगा कि भले लोग हैं.... विदेशियों पर पानी नहीं डालते हैं.. लेकिन जैसे ही होटल से कपडे बदलकर इन्टरनेट कैफे के लिए बाहर सड़क पर निकला तो लोगो ने पानी से सरोबार कर दिया...

आपकी इस पोस्ट से यादें ताज़ा हो गई हैं... :-)

arvind said...

खुबसूरत चित्रों के साथ जानकारी देने के लिए आभार

Er. Diwas Dinesh Gaur said...

सवादी खा दिव्या जी...
बहुत बहुत शुभकामनाएं आपको सोंगक्रान की...बहुत अच्छी तस्वीरें हैं...बहुत अच्छा लगा इस त्यौहार के बारे में जानकर| वैसे मेरे बड़े भईया एक वर्ष Bangkok में रह चुके हैं, किन्तु वे अकेले ही थे, अत: वहां की परंपरा के बारे में अधिक जान नहीं सके| अत: उन्होंने कभी इसके बारे में नहीं बताया...होली जैसा ही त्यौहार है|

डा० अमर कुमार said...

.
बेहतरीन जानकारी और.. खूबसूरत छायाँकन । यदि इस त्यौहार का कुछ ऎतिहासिक सँदर्भ भी मिल जाता, जो जानकरी में ौपयोगी इज़ाफ़ा हो जाता । फोटो सँख्या 1 और फोटो सँख्या 5 भूलवश दोहरा दिये गये हैं, शायद !

अन्तर सोहिल said...

सुन्दर तस्वीरें
नई जानकारी मिली
खपून खा

ashish said...

बधाई आपको थाई होली की . पिचकारी तो दिख रही है , रंग कहा है? नयनाभिराम चित्रों के साथ नवीन जानकारी के लिए आभार .

aarkay said...

थाई होली की बधाई एवं शुभकामनाएं ! रोचक विवरण एवं आकर्षक छायाचित्रों के साथ अपना अनुभव हम सब के साथ बांटने के लिए आभार !

G Vishwanath said...

बहुत दिनों बाद आज आपका ब्लॉग पर लौटा हूँ।
चित्र देखकर अच्छा लगा।
आपके के पति कहीं भी दिखाई नहीं दे रहे हैं?
यदि मन हुआ और उन्हें कोई आपत्ति नहीं है तो उनकी तसवीर भी हम देखना चाहेंगे।
व्यस्तता और कुछ निजी मज़बूरियों के कारण हम हिन्दी ब्लॉग जगत से दूर रहे थे, बहुत दिनों तक.
अब आज से आपके यहाँ फ़िर आते रहेंगे।
शुभकामनाएं
जी विश्वनाथ

Poorviya said...

सुन्दर तस्वीरे
नई जानकारी मिली
खपून खा........

jai baba banaras....

संजय भास्कर said...

खुबसूरत चित्रों के साथ जानकारी देने के लिए आपका आभार

ajit gupta said...

बड़ी अच्‍छी जानकारी दी। आपका लेटेस्‍ट फोटो भी देख लिया, लेकिन फेमिली फोटो भी होता तो बेहतर रहता, हम लोगों के लिए।

ZEAL said...

.

प्रतुल जी , विश्वनाथ जी , अजित जी ,

कुछ तसवीरें और अपलोड की हैं , जिसमें पूरे परिवार को देखा जा सकता है। लेकिन ऐसी कोई भी तस्वीर नहीं है जिसमें हम चारों एक साथ हों, क्यूंकि कोई तस्वीरें लेने में व्यस्त होता था तो कोई विडिओ शूट में। । लेकिन फिर भी मिला-जुला के काम चल जाएगा।

.

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

बहुत बढ़िया तसवीरें ... और सोंगक्रान के बारे में जानकार अच्छा लगा ... भारत से बाहर भी भारतीय परम्परा और संस्कृति की झलक मिलती है तो अच्छा लगता है ...

Coral said...

बहुत सुन्दर लगा आपको एव परिवार को देखकर

बस इतनी सी .....

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

बिलकुल नयी जानकारी के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद .......SONGKRON की बधाई स्वीकारें |

बहुत-बहुत खूबसूरत चित्रों ने मन मोह लिया |

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

आपको बच्चों सहित सपरिवार देखकर बहुत ख़ुशी हुई |

आप सपरिवार इसी तरह हर्षयुत जीवन जियें , हार्दिक कामना है |

राज भाटिय़ा said...

सवादी-खा ...आज आप सब का चित्र परिवार समेत देख कर बहुत अच्छा लगा, सारे चित्र बहुत खुब्सुरत लगे, SONGKRON यानि होली की बधाई आप सब को, बहुत सुंदर जानकारी दी आप ने.खपून खा

विशाल said...

nice post divyaji.thanks for sharing your family snaps.kindly change the snap on your blog.you look damn good in long hair.happy holi.

sorry couldnt write in hindi.

shikha varshney said...

बहुत सुन्दर तस्वीरें और सुन्दर जानकारी.

मनोज कुमार said...

इस चित्रात्मक परिचय के लिए
खपून खा!

smshindi By Sonu said...

आपको एवं आपके परिवार को भगवान हनुमान जयंती की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ।

अंत में :-

श्री राम जय राम जय राम

हारे राम हारे राम हारे राम

हनुमान जी की तरह जप्ते जाओ

अपनी सारी समस्या दूर करते जाओ

!! शुभ हनुमान जयंती !!

आप भी सादर आमंत्रित हैं,

भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ

प्रतुल वशिष्ठ said...

अब जमी बात :)

दर्शन लाल बवेजा said...

आभार इस जानकारी के लिये।

एम सिंह said...

अपने शानदार अनुभव को साझा करके आपने हमें बेहतरीन जानकारी दी है.

मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है -
मीडिया की दशा और दिशा पर आंसू बहाएं
भले को भला कहना भी पाप

मीनाक्षी said...

सुन्दर तस्वीरें ...प्यारा परिवार.. रोचक जानकारी...हमारा सफ़र भी इस इस पोस्ट के साथ खूबसूरत रहा..शुक्रिया

Sawai Singh Rajpurohit said...

बहुत बढ़िया तसवीरें

Sawai Singh Rajpurohit said...

भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ

rashmi ravija said...

बहुत ही सुन्दर तस्वीरें हैं....और उतनी ही रोचक जानकारी
अच्छा लगा..पूरे परिवार से मिलकर...

mahendra verma said...

तस्वीरें देखते हुए ऐसा लग रहा था जैसे हम भी आप लोगों के साथ थाइलैण्ड की सैर कर रहे हैं।
आपको सपरिवार बधाई एवं शुभकामनाएं।

डॉ टी एस दराल said...

दिलचस्प जानकारी ।
'Koh-Chang' नामक खूबसूरत Island पर सुन्दर समुद्र के नज़ारे अति मनभावन लगे ।
फोटो तो आपने लिए होंगे , फिर यह चश्मे वाली सुन्दर सी नवयुवती कौन है भाई ?

Dilbag Virk said...

khoobsoort tasviren aur khoobsoort jankari

Rahul Singh said...

नई ताजगी.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

होली के बहाने ही सही,
बहुत सुन्दर चित्र दिखा दिये आपने तो!
अगर कैप्सन में इनका संक्षिप्त परिचय भी रहता तो मजा आ जाता♥

cmpershad said...

सोंग्क्रान शब्द संक्रांति से मिलता-जुलता है, बहुत से भारतीय शब्द और संस्कार शायद मिलते-जुलते हों क्योंकि इनमें अनादि काल से सम्पर्क रहा है। चित्रों के साथ वर्णन मिल जाता तो समझने में अधिक सुविधा होती :)

Deepak Saini said...

नयी जानकारी और पारिवारिक चित्र बहुत अच्छे लगे

सुबीर रावत said...

होली के बहाने ही सही थाईलैंड के समुद्रतटों के दर्शन हो गए और आप के परिवार से भी मिल लिए. ऐसा संयोग कम ही होता है. नहीं तो आपके लेख पढ़कर लम्बे समय तक मन गंभीर रूप धारण कर लेता है....... इस दिव्य और चित्रमय प्रस्तुति के लिए आभार ..... शुभकामनायें.

जाट देवता said...

जाट देवता की राम राम,
बहुत खुशी हुई ये जानकर कि वहाँ भी रंगों की होली खेली जाती है।
आप ने होली का सिर्फ़ पहला व आखिरी दो ही फ़ोटो लगाये।

यादें said...

दिव्या ! आपको परिवार सहित थाईलेंड की होली मुबारक !

देखना और पडना सब अच्छा लगा !
खुश और स्वस्थ रहें!

दर्शन कौर धनोए said...

वाह ! दिव्या जी मजेदार तस्वीरे ! साथ में परिवार के फोटो ,मज़ा आ गया ! होली की तरह का त्यौहार मन मोहक लगा|एक नई नवेली पोस्ट के साथ आपको देखना भला लगा !

मदन शर्मा said...

खूबसूरत चित्रों के साथ अच्छी जानकारी ... होली (सोंगक्रान)कि बधाई और शुभकामनायें

BK Chowla, said...

pictures are so beautiful and will touch any one's heart.
I was not aware of a festival like this in Thailand though I have been there.

प्रतिभा सक्सेना said...

जानकारियों सहित ,थाईलैंड की आकर्षक पृष्ठभूमि और आपका सपरिवार चित्रण बहुत अच्छा लगा !

सञ्जय झा said...

savadi-kha,

songkran.....ki subhkamnayen evam badhai.....

khapun-kha


pranam.

Anupam karn said...

Beautiful pics !!!

mahendra srivastava said...

अद्भुत. बोलती हुई तस्वीरों ने हमें भी थाईलैंड घुमा दिया।

घनश्याम मौर्य said...

आपकी इस पोस्‍ट में चित्रों ने चार चॉंद लगा दिये हैं। वैसे मैनें पढा हे कि यूनान और स्‍पेन जैसे देशों में भी होली से मिलते-जुलते त्‍योहार मनाये जाते हैं जिनमें एक दूसरे पर रंग डाला जाता है।

शोभना चौरे said...

लगा हम भी साथ ही थे बहुत सुन्दर चित्रमय वर्णन |
आपके पूरे परिवार को शुभकामनाये |

Kavita Prasad said...

chitr khoobsurat hain :]

प्रतीक माहेश्वरी said...

सवादी-खा,
सही... यह तो पता नहीं थी बात कि थाईलैंड में भी होली की धूम मचती है.. सोंगक्रान की शुभकामनाएं..

खपून खा

कौशलेन्द्र said...

हूँ ऊँ ऊँ ऊँ ! देर से आया इधर ...बहुत खोजा पर वह मोटी, काली, भद्दी दिव्या कहीं नज़र नहीं आयी ....
शैतान कहीं की ! उल्लू बनाना खूब आता है.
थाईलैंड में रमा दिव्या-समीर का परिवार बहुत अच्छा लगा. चलिए आपलोगों के साथ हमने भी घूम लिया आईलैंड ..और मना ली होली. पर मुझे अब ठण्ड लग रही है ...दिव्या ने बहुत ठंडा और खूब सा पानी मेरे ऊपर डाल दिया था. आ आ आ आक छी ........! लो हो गया न जुखाम भी. शैतान कहीं की...बुजुर्गों पर कहीं इतना पानी डालते हैं ?

Safarchand said...

Divya ji, apne khoobsoorat blog ka link bhejne ke liye danyawaad.

"rakshabandhan" namak ek kavita hai...uska link bhej raha hoon...

http/safarchand-hindipoem.blogspo.com

सदा said...

दिव्‍या जी, बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति दी है आपने ... शुभकामनाएं ।

रूप said...

excellent zeal of nomadic mood ! and that black,fatty,bespectacled lady(??? !) is quite attractive !

Jagan Ramamoorthy said...
This comment has been removed by the author.
हरीश प्रकाश गुप्त said...

नए अंदाज में आपका यह आलेख जानकारी परक भी है और आपका सपरिवार परिचय कराने वाला भी। सभी को मेरी तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं।

आशुतोष said...

सोंगक्रान की शुभकामनाएं

ZEAL said...

.

एक बात यहाँ स्पष्ट करना जरूरी समझ रही हूँ।

जैसे हिंदी में करुँगी -करूँगा, जाउंगी-जाऊंगा, खाऊँगी -खाऊंगा जैसा लिंग विभेद है , वैसा ही थाई भाषा में भी है। स्त्रियाँ "खा" कहती हैं और पुरुष हर जगह "खप" कहेंगे।

खपून खा (स्त्रियों द्वारा)
खपून खप (पुरुषों द्वारा)

सवादी खा (स्त्रियों द्वारा नमस्ते कहेंगे)
सवादी खप (पुरुषों द्वारा नमस्ते कहेंगे)

सबाई डी माई ?--(आप कैसे हैं ?)
सबाई डी खा (मैं अच्छी हूँ )
सबाई डी खप ( मैं अच्छा हूँ)

आभार !

.

ratanpreet said...

Nice Blog

धीरेन्द्र सिंह said...

एक यात्रा का अवसर देने के लिए धन्यवाद.

padam borawat said...

थाईलैंड वासियों को होली की हार्दिक शुभकामनायें ...खुबसूरत चित्रों के साथ जानकारी देने के लिए आपका आभार padam

padam borawat said...

थाईलैंड वासियों को होली की हार्दिक शुभकामनायें ...खुबसूरत चित्रों के साथ जानकारी देने के लिए आपका आभार