Monday, September 24, 2012

घोटालों का पेड़

घोटालों का पेड़ सिर्फ कांग्रेस के ही पास है जिसपर कभी थोरियम, कभी कोयला , कभी 2G का अम्बार लगता रहता है , पैसा झरता है और दनादन स्विस खातों में जमा होता रहता है और हमारे  प्रधानमन्त्री जी कहते हैं की पैसे पेड़ पर नहीं लगते ! अरे सारी दुनिया यही समझती थी की पैसे पेड़ पर नहीं लगते हैं , लेकिन कांग्रेस की कारगुजारियों के बाद अब तो यकीन हो गया है कांग्रेस के पास पैसे उगलने वाले घोटालों का पेड़ है !

4 comments:

दिवस said...

मनमोहन ने गलत क्या कहा? पैसे पेड़ पर नहीं लगते। उसके लिए कितने घोटाले करने पड़ते हैं। कितना दिमाग उन घोटालों को दबाने में खर्च करना पड़ता है। घोटाले सामने आने पर आरोपियों को किस प्रकार बचाना पड़ता है। मासूम जनता का खून चूसना पड़ता है। अपनी ही जनता को तिल-तिल मरने को मजबूर करना पड़ता है।
यह सब इतना आसान नहीं है। पैसे पेड़ पर नहीं लगते उसके लिए ये सब करना पड़ता है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बरगद को ज्ञन सिखाने चले हैं....!

Virendra Kumar Sharma said...


मम्मी जी के आँगन में है जी घोटालों का पेड़ ही नहीं बैंक भी है .

पूरण खण्डेलवाल said...

घोटाले करने में और दबाने में कितना जौर लगाना पड़ता है यह बात मनमोहन सिंह जी से ज्यादा कौन जानता है इसीलिए तो उन्होंने कहा था कि पैसे पेड़ पर नहीं लगते है !!